ऐसा प्यार बहा दे मैया: भजन (Aisa Pyar Baha De Maiya)

या देवी सर्वभूतेषु,

दया-रूपेण संस्थिता ।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै,

नमस्तस्यै नमो नमः ॥

दुर्गा दुर्गति दूर कर,

मंगल कर सब काज ।

मन मंदिर उज्वल करो,

कृपा करके आज ॥



ऐसा प्यार बहा दे मैया,

चरणों से लग जाऊ मैं ।

सब अंधकार मिटा दे मैया,

दरस तेरा कर पाऊं मैं ॥



जग मैं आकर जग को मैया,

अब तक न मैं पहचान सका ।

क्यों आया हूँ कहाँ है जाना,

यह भी ना मै जान सका ।

तू है अगम अगोचर मैया,

कहो कैसे लख पाऊं मैं ॥

ऐसा प्यार बहा दे मैया..॥



कर कृपा जगदम्बे भवानी,

मैं बालक नादान हूँ ।

नहीं आराधन जप तप जानूं,

मैं अवगुण की खान हूँ ।

दे ऐसा वरदान हे मैया,

सुमिरन तेरा गाऊ मैं ॥

ऐसा प्यार बहा दे मैया..॥



मै बालक तू माया मेरी,

निष् दिन तेरी ओट है ।

तेरी कृपा से ही मिटेगी,

भीतर जो भी खोट है ।

शरण लगा लो मुझ को मईया,

तुझपे बलि बलि जाऊ मैं ॥



ऐसा प्यार बहा दे मैया,

चरणों से लग जाऊ मैं ।

सब अंधकार मिटा दे मैया,

दरस तेरा कर पाऊं मैं ॥

गंगा के खड़े किनारे, भगवान् मांग रहे नैया: भजन (Ganga Ke Khade Kinare Bhagwan Mang Rahe Naiya)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 3 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 3)

सुन लो चतुर सुजान, निगुरे नहीं रहना (Sunlo Chatur Sujan Nigure Nahi Rehna)

परमा एकादशी व्रत कथा (Parama Ekadashi Vrat Katha)

भजन: कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं! (Bhajan: Kalyug Mein Sidh Ho Dev Tumhin Hanuman)

जानकी स्तुति - भइ प्रगट किशोरी (Janaki Stuti - Bhai Pragat Kishori)

हरि नाम नहीं तो जीना क्या: भजन (Hari Nam Nahi Too Jeena Kya)

राम नाम सुखदाई, भजन करो भाई! (Ram Naam Sukhdai Bhajan Karo Bhai Yeh Jeevan Do Din Ka)

बधाई भजन: बजे कुण्डलपर में बधाई, के नगरी में वीर जन्मे (Badhai Bhajan Baje Kundalpur Me Badayi Nagri Me Veer Janme)

भजन: जिनके हृदय हरि नाम बसे (Jinke Hriday Hari Naam Base)

मुझे चरणों से लगाले, मेरे श्याम मुरली वाले: भजन (Mujhe Charno Se Lagale Mere Shyam Murli Wale)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 9 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 9)