ऐसा प्यार बहा दे मैया: भजन (Aisa Pyar Baha De Maiya)

या देवी सर्वभूतेषु,

दया-रूपेण संस्थिता ।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै,

नमस्तस्यै नमो नमः ॥

दुर्गा दुर्गति दूर कर,

मंगल कर सब काज ।

मन मंदिर उज्वल करो,

कृपा करके आज ॥



ऐसा प्यार बहा दे मैया,

चरणों से लग जाऊ मैं ।

सब अंधकार मिटा दे मैया,

दरस तेरा कर पाऊं मैं ॥



जग मैं आकर जग को मैया,

अब तक न मैं पहचान सका ।

क्यों आया हूँ कहाँ है जाना,

यह भी ना मै जान सका ।

तू है अगम अगोचर मैया,

कहो कैसे लख पाऊं मैं ॥

ऐसा प्यार बहा दे मैया..॥



कर कृपा जगदम्बे भवानी,

मैं बालक नादान हूँ ।

नहीं आराधन जप तप जानूं,

मैं अवगुण की खान हूँ ।

दे ऐसा वरदान हे मैया,

सुमिरन तेरा गाऊ मैं ॥

ऐसा प्यार बहा दे मैया..॥



मै बालक तू माया मेरी,

निष् दिन तेरी ओट है ।

तेरी कृपा से ही मिटेगी,

भीतर जो भी खोट है ।

शरण लगा लो मुझ को मईया,

तुझपे बलि बलि जाऊ मैं ॥



ऐसा प्यार बहा दे मैया,

चरणों से लग जाऊ मैं ।

सब अंधकार मिटा दे मैया,

दरस तेरा कर पाऊं मैं ॥

श्री दशावतार स्तोत्र: प्रलय पयोधि-जले (Dashavtar Stotram: Pralay Payodhi Jale)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 29 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 29)

भजन: मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है। (Mujhe Tune Malik Bahut Kuch Diya Hai)

श्री लक्ष्मी सुक्तम् - ॐ हिरण्यवर्णां हरिणींसुवर्णरजतस्रजाम् (Sri Lakshmi Suktam - Om Hiranya Varnam)

तुम्हारी जय हो वीर हनुमान भजन (Tumhari Jai Ho Veer Hanuman Bhajan)

मधुराष्टकम्: अधरं मधुरं वदनं मधुरं - श्रीवल्लभाचार्य कृत (Madhurashtakam Adhram Madhuram Vadnam Madhuram)

सुन लो चतुर सुजान, निगुरे नहीं रहना (Sunlo Chatur Sujan Nigure Nahi Rehna)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 25 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 25)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 11 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 11)

बताओ कहाँ मिलेगा श्याम: भजन (Batao Kahan Milega Shyam)

सकट चौथ पौराणिक व्रत कथा - श्री महादेवजी पार्वती (Sakat Chauth Pauranik Vrat Katha - Shri Mahadev Parvati)

भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में! (Shri Ram Janki Baithe Hain Mere Seene Me Bhajan)