मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो: शिव भजन (Mere Bhole Baba Ko Anadi Mat Samjho)

मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो,

अनाड़ी मत समझो, खिलाडी मत समझो,

अनाड़ी मत समझो, खिलाडी मत समझो,

वो है त्रिपुरारी अनाड़ी मत समझो ॥



मेरे भोले बाबा के गले सर्प माला,

मेरे भोले बाबा के गले सर्प माला,

सर्पो को देख कर सपेरा मत समझो,

सपेरा मत समझो, सपेरा मत समझो,

अनाड़ी मत समझो, खिलाडी मत समझो,

वो है त्रिपुरारी अनाड़ी मत समझो ॥



मेरे भोले बाबा के हाथो में डमरू,

मेरे भोले बाबा के हाथो में डमरू,

डमरू को देखके मदारी मत समझो,

मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो,

अनाड़ी मत समझो, खिलाडी मत समझो,

वो है त्रिपुरारी अनाडी मत समझो ॥



मेरे भोले बाबा के तन पे मृगछाला,

मेरे भोले बाबा के तन पे मृगछाला,

मृगछाला को देखके शिकारी मत समझो,

मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो,

अनाड़ी मत समझो, खिलाडी मत समझो,

वो है त्रिपुरारी अनाड़ी मत समझो ॥



मेरे भोले बाबा के तन पे है भस्मी,

मेरे भोले बाबा के तन पे है भस्मी,

भस्मी को देखके मनमौजी मत समझो,

मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो,

अनाड़ी मत समझो, खिलाडी मत समझो,

वो है त्रिपुरारी अनाडी मत समझो ॥



मेरे भोले बाबा के साथ में है नंदी,

मेरे भोले बाबा के साथ में है नंदी,

नंदी को देखके व्यापारी मत समझो,

मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो,

अनाड़ी मत समझो, खिलाडी मत समझो,

वो है त्रिपुरारी अनाडी मत समझो ॥



मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो,

अनाड़ी मत समझो, खिलाडी मत समझो,

अनाड़ी मत समझो, खिलाडी मत समझो,

वो है त्रिपुरारी अनाड़ी मत समझो ॥

प्रेरक कथा: श्री कृष्ण मोर से, तेरा पंख सदैव मेरे शीश पर होगा! (Prerak Katha Shri Krishn Mor Se Tera Aankh Sadaiv Mere Shish)

ऐसे मेरे मन में विराजिये: भजन (Aaise Mere Maan Main Virajiye)

अनमोल तेरा जीवन, यूँ ही गँवा रहा है: भजन (Anmol Tera Jeevan Yuhi Ganwa Raha Hai)

श्री राधा कृपा कटाक्ष स्त्रोत्र (Shri Radha Kriya Kataksh Stotram)

दामोदर अष्टकम (Damodarastakam)

ऐ मुरली वाले मेरे कन्हैया, बिना तुम्हारे.. (Ae Murliwale Mere Kanhaiya, Bina Tumhare Tadap Rahe Hain)

भजन: बेटा जो बुलाए माँ को आना चाहिए (Beta Jo Bulaye Maa Ko Aana Chahiye)

जय जय जननी श्री गणेश की: भजन (Jai Jai Janani Shri Ganesh ki)

श्री ललिता माता की आरती (Shri Lalita Mata Ki Aarti)

भगवान राम के राजतिलक में निमंत्रण से छूटे भगवान चित्रगुप्त (Ram Ke Rajtilak Me Nimantran Se Chhute Bhagwan Chitragupt)

मैं परदेशी हूँ पहली बार आया हूँ: भजन (Main Pardesi Hun Pehli Bar Aaya Hun)

काक चेष्टा, बको ध्यानं: आदर्श विद्यार्थी के पांच लक्षण (Kaak Cheshta Vidyarthee Ke Panch Gun)