जिसको जीवन में मिला सत्संग है (Jisko jivan Main Mila Satsang Hai)

जिसके जीवन मैं मिला सत्संग हैं,

उसे हर घड़ी आनंद ही आनंद है।



जिसे जीवन मैं मिला सत्संग हैं,

उसे हरदम आनंद ही आनंद है। - x2



जिसका हरी से जुड़ा संबंध हैं,

उसे हर घड़ी आनंद ही आनंद है। - x4



सूरदास मीरा कबीरा ने गया,

तुलसी नानक ने भी दर्शन पाया। - x2



जिसके हृदय मे राम नाम बंद है,

जिसके हृदय मे राम नाम बंद है,

उसे हर घड़ी आनंद ही आनंद है। - x2



जिसके जीवन मैं मिला सत्संग हैं,

उसे हर घड़ी आनंद ही आनंद है।



जिसका जीवन सच्चाई में ढाल गया,

उसके पापों का पर्वत भी ढाल गया,

उसके रोम रोम मे बस गोविंद ही गोविंद ।



संत और ऋषियो की वाणी को मानो,

तत्व क्या है जगत का ये मन मे पहचानो।



जिसका चौरासी कट जाए फंद है

उसे हर घड़ी आनंद ही आनंद है।



जिसे जीवन मैं मिला सत्संग हैं,

उसे हरदम आनंद ही आनंद है। - x2



जिसे स्वर्ग जाने की इच्छा नहीं है

जिसे मुक्ति पाने की इच्छा नहीं है

उसे ही मिलता यहाँ परमानंद है

उसे हर घड़ी आनंद ही आनंद है।



जिसे जीवन मैं मिला सत्संग हैं,

उसे हरदम आनंद ही आनंद है। - x2

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 7 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 7)

संकटा माता व्रत कथा (Sankata Mata Vrat Katha)

भजन: घर आये राम लखन और सीता (Ghar Aaye Ram Lakhan Aur Sita)

मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो: शिव भजन (Mere Bhole Baba Ko Anadi Mat Samjho)

भजन: मुझे राधे नाम सुनाई दे! (Mujhe Radhe Naam Sunai De)

वो है जग से बेमिसाल सखी: भजन (Woh Hai Jag Se Bemisal Sakhi)

जगत के रंग क्या देखूं: भजन (Jagat Ke Rang Kya Dekhun)

मुझे चरणों से लगाले, मेरे श्याम मुरली वाले: भजन (Mujhe Charno Se Lagale Mere Shyam Murli Wale)

रोहिणी शकट भेदन, दशरथ रचित शनि स्तोत्र कथा (Rohini Shakat Bhed Dasharath Rachit Shani Stotr Katha)

मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का: भजन (Mukut Sir Mor Ka, Mere Chit Chor Ka)

काक चेष्टा, बको ध्यानं: आदर्श विद्यार्थी के पांच लक्षण (Kaak Cheshta Vidyarthee Ke Panch Gun)

अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं। (Ajab Hairan Hoon Bhagawan Tumhen Kaise Rijhaon Main)