अम्बे तू है जगदम्बे काली: माँ दुर्गा, माँ काली आरती (Maa Durga Maa Kali Aarti)

माँ दुर्गे का साप्ताहिक दिन शुक्रवार, दोनों नवरात्रि, अष्टमी, माता की चौकी एवं जगराते में सबसे अधिक गाई जाने वाली आरती।



अम्बे तू है जगदम्बे काली,

जय दुर्गे खप्पर वाली ।

तेरे ही गुण गाये भारती,

ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥




तेरे भक्त जनो पर,


भीर पडी है भारी माँ ।


दानव दल पर टूट पडो,


माँ करके सिंह सवारी ।


सौ-सौ सिंहो से बलशाली,


अष्ट भुजाओ वाली,


दुष्टो को पलमे संहारती ।


ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥




अम्बे तू है जगदम्बे काली,


जय दुर्गे खप्पर वाली ।


तेरे ही गुण गाये भारती,


ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥



माँ बेटे का है इस जग मे,

बडा ही निर्मल नाता ।

पूत - कपूत सुने है पर न,

माता सुनी कुमाता ॥

सब पे करूणा दरसाने वाली,

अमृत बरसाने वाली,

दुखियो के दुखडे निवारती ।

ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥




अम्बे तू है जगदम्बे काली,


जय दुर्गे खप्पर वाली ।


तेरे ही गुण गाये भारती,


ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥




नही मांगते धन और दौलत,


न चांदी न सोना माँ ।


हम तो मांगे माँ तेरे मन मे,


इक छोटा सा कोना ॥


सबकी बिगडी बनाने वाली,


लाज बचाने वाली,


सतियो के सत को सवांरती ।


ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥




अम्बे तू है जगदम्बे काली,


जय दुर्गे खप्पर वाली ।


तेरे ही गुण गाये भारती,


ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥



----- Addition ----

चरण शरण मे खडे तुम्हारी,

ले पूजा की थाली ।

वरद हस्त सर पर रख दो,

मॉ सकंट हरने वाली ।

मॉ भर दो भक्ति रस प्याली,

अष्ट भुजाओ वाली,

भक्तो के कारज तू ही सारती ।

ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥




अम्बे तू है जगदम्बे काली,


जय दुर्गे खप्पर वाली ।


तेरे ही गुण गाये भारती,


ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥




आरती: जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी

न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ: कामना (Na Dhan Dharti Na Dhan Chahata Hun: Kamana)

मेरी भावना: जिसने राग-द्वेष कामादिक - जैन पाठ (Meri Bawana - Jisne Raag Dwesh Jain Path)

जन्माष्टमी भजन: ढँक लै यशोदा नजर लग जाएगी (Dhank Lai Yashoda Najar Lag Jayegi)

भजन: मैं तो संग जाऊं बनवास, स्वामी.. (Bhajan: Main Too Sang Jaun Banwas)

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी: भजन (Ik Din Vo Bhole Bhandari Banke Braj Ki Nari)

विन्ध्येश्वरी आरती: सुन मेरी देवी पर्वतवासनी (Sun Meri Devi Parvat Vasani)

घुमा दें मोरछड़ी: भजन (Ghuma De Morchadi)

तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान: भजन (Tere Pujan Ko Bhagwan)

भजन: हर बात को भूलो मगर.. (Har Baat Ko Tum Bhulo Bhale Maa Bap Ko Mat Bhulna)

करवा चौथ व्रत कथा: साहूकार के सात लड़के, एक लड़की की कहानी (Karwa Chauth Vrat Katha)

श्री जग्गनाथ आरती - चतुर्भुज जगन्नाथ (Shri Jagganath Aarti - Chaturbhuja Jagannatha)

भजन: किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए.. (Kishori Kuch Aisa Intazam Ho Jaye)