श्री खाटू श्याम जी आरती (Shri Khatu Shyam Ji Ki Aarti)

ॐ जय श्री श्याम हरे,

बाबा जय श्री श्याम हरे।

खाटू धाम विराजत,

अनुपम रूप धरे॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




रतन जड़ित सिंहासन,


सिर पर चंवर ढुरे ।


तन केसरिया बागो,


कुण्डल श्रवण पड़े ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




गल पुष्पों की माला,


सिर पार मुकुट धरे ।


खेवत धूप अग्नि पर,


दीपक ज्योति जले ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




मोदक खीर चूरमा,


सुवरण थाल भरे ।


सेवक भोग लगावत,


सेवा नित्य करे ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




झांझ कटोरा और घडियावल,


शंख मृदंग घुरे ।


भक्त आरती गावे,


जय-जयकार करे ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




जो ध्यावे फल पावे,


सब दुःख से उबरे ।


सेवक जन निज मुख से,


श्री श्याम-श्याम उचरे ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




श्री श्याम बिहारी जी की आरती,


जो कोई नर गावे ।


कहत भक्त-जन,


मनवांछित फल पावे ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




जय श्री श्याम हरे,


बाबा जी श्री श्याम हरे ।


निज भक्तों के तुमने,


पूरण काज करे ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥



ॐ जय श्री श्याम हरे,

बाबा जय श्री श्याम हरे।

खाटू धाम विराजत,

अनुपम रूप धरे॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥


श्री श्याम विनती: हाथ जोड़ विनती करू तो सुनियो चित्त लगाये!

कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना! (Kaise Jiun Main Radha Rani Tere Bina)

भजन: राम का सुमिरन किया करो! (Ram Ka Sumiran Kiya Karo Prabhu Ke Sahare Jiya Kro)

बधाई भजन: लल्ला की सुन के मै आयी यशोदा मैया देदो! (Lalla Ki Sun Ke Mai Aayi Yashoda Maiya Dedo Badhai)

क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी: भजन (Kshama Karo Tum Mere Prabhuji)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 16 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 16)

मंत्र: श्री विष्णुसहस्रनाम पाठ (Shri Vishnu Sahasranam Path)

तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान: भजन (Tere Pujan Ko Bhagwan)

हे मुरलीधर छलिया मोहन: भजन (Hey Muralidhar Chhaliya Mohan)

कनक भवन दरवाजे पड़े रहो: भजन (Kanak Bhawan Darwaje Pade Raho)

बिल्वाष्टोत्तरशतनामस्तोत्रम् (Bilva Ashtottara Shatnam Stotram)

भजन: झूलन चलो हिंडोलना, वृषभान नंदनी (Jjhulan Chalo Hindolana Vrashbhanu Nandni)

मेरे राम मेरे घर आएंगे, आएंगे प्रभु आएंगे: भजन (Mere Ram Mere Ghar Ayenge Ayenge Prabhu Ayenge)