श्री खाटू श्याम जी आरती (Shri Khatu Shyam Ji Ki Aarti)

ॐ जय श्री श्याम हरे,

बाबा जय श्री श्याम हरे।

खाटू धाम विराजत,

अनुपम रूप धरे॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




रतन जड़ित सिंहासन,


सिर पर चंवर ढुरे ।


तन केसरिया बागो,


कुण्डल श्रवण पड़े ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




गल पुष्पों की माला,


सिर पार मुकुट धरे ।


खेवत धूप अग्नि पर,


दीपक ज्योति जले ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




मोदक खीर चूरमा,


सुवरण थाल भरे ।


सेवक भोग लगावत,


सेवा नित्य करे ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




झांझ कटोरा और घडियावल,


शंख मृदंग घुरे ।


भक्त आरती गावे,


जय-जयकार करे ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




जो ध्यावे फल पावे,


सब दुःख से उबरे ।


सेवक जन निज मुख से,


श्री श्याम-श्याम उचरे ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




श्री श्याम बिहारी जी की आरती,


जो कोई नर गावे ।


कहत भक्त-जन,


मनवांछित फल पावे ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥




जय श्री श्याम हरे,


बाबा जी श्री श्याम हरे ।


निज भक्तों के तुमने,


पूरण काज करे ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥



ॐ जय श्री श्याम हरे,

बाबा जय श्री श्याम हरे।

खाटू धाम विराजत,

अनुपम रूप धरे॥

ॐ जय श्री श्याम हरे...॥


श्री श्याम विनती: हाथ जोड़ विनती करू तो सुनियो चित्त लगाये!

प्रेरक कथा: श्री कृष्ण मोर से, तेरा पंख सदैव मेरे शीश पर होगा! (Prerak Katha Shri Krishn Mor Se Tera Aankh Sadaiv Mere Shish)

नौ दिन का त्यौहार है आया: भजन (Nau Din Ka Tyohaar Hai Aaya)

जगन्नाथ भगवान जी का भजन (Jagannath Bhagwan Ji Ka Bhajan)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 5 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 5)

तुलसी विवाह पौराणिक कथा (Tulsi Vivah Pauranik Katha)

मैं तो तेरी हो गई श्याम: भजन (Me Too Teri Hogai Shayam, Dunyan Kya Jane)

श्री शङ्कराचार्य कृतं - शिव स्वर्णमाला स्तुति (Shiv Swarnamala Stuti)

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की - माँ संतोषी भजन (Main Toh Aarti Utaru Re Santoshi Mata Ki)

दैनिक हवन-यज्ञ विधि! (Dainik Havan Yagy Vidhi)

गोबिंद चले चरावन गैया: भजन (Gobind Chale Charavan Gaiya)

होली खेलन आयो श्याम, आज: होली भजन (Holi Khelan Aayo Shyam, Aaj)

तेरी मुरली की मैं हूँ गुलाम... (Teri Murli Ki Main Huun Gulaam Mere Albele Shyam)