वो है जग से बेमिसाल सखी: भजन (Woh Hai Jag Se Bemisal Sakhi)

नवदुर्गा, दुर्गा पूजा, नवरात्रि, नवरात्रे, नवरात्रि, माता की चौकी, देवी जागरण, जगराता, शुक्रवार दुर्गा तथा अष्टमी के शुभ अवसर पर गाये जाने वाला प्रसिद्ध व लोकप्रिय भजन।



कोई कमी नहीं है, दर मइया के जाके देख

देगी तुझे दर्शन मइया, तू सर को झुका के देख

अगर आजमाना है, तो आजमा के देख

पल भर में भरेगी झोली, तू झोली फैला के देख



वो है जग से बेमिसाल सखी

माँ शेरोवाली कमाल सखी - 2

की री तुझे क्या बतलाऊं



वो है कितनी दीनदयाल सखी री, तुझे क्या बतलाऊं

तुझे क्या बतलाऊं

वो है कितनी दीनदयाल सखी री तुझे क्या बतलाऊं

तुझे क्या बतलाऊं



जो सच्चे दिल से द्वार मइया के जाता है

वो मुँह माँगा वर माँ जगजननी से पाता है - 2



फिर रहे न वो, फिर रहे न वो, कंगाल सखी

फिर रहे न वो, कंगाल सखी, हो जाये मालामाल सखी

की री तुझे क्या बतलाऊं

॥वो है कितनी दीनदयाल सखी री...॥



माँ पल -पल करती अपने भक्त की रखवाली

दुःख रोग हरे एक पल में माँ शेरोवाली - 2



करे पूरे सभी, सवाल सखी

बस मन से, भरम निकाल सखी - 2

की री तुझे क्या बतलाऊं

॥वो है कितनी दीनदयाल सखी री...॥



माँ भर दे खाली गोद, की रे आँगन भर दे रे

खुशियों के लगा दे ढेर, सुहागन कर दे रे - 2



माओं को देती, लाल सखी

रहने दे न, रे कोई मलाल सखी - 2

की री तुझे क्या बतलाऊं

॥वो है कितनी दीनदयाल सखी री...॥



हर कमी करे पूरी माँ, अपने प्यारो की

लम्बी है कहानी, मइया के उपकारों की - 2



देती है मुसीबत, टाल सखी

कहा जाये न, सारा हाल सखी - 2

की री तुझे क्या बतलाऊं

॥वो है कितनी दीनदयाल सखी री...॥

पत्नीं मनोरमां देहि - सुंदर पत्नी प्राप्ति मंत्र (Patni Manoraman Dehi)

सुख के सब साथी, दुःख में ना कोई: भजन (Sukh Ke Sab Saathi, Duhkh Mein Na Koi)

भगवान राम के राजतिलक में निमंत्रण से छूटे भगवान चित्रगुप्त (Ram Ke Rajtilak Me Nimantran Se Chhute Bhagwan Chitragupt)

श्री ललिता माता की आरती (Shri Lalita Mata Ki Aarti)

नामावलि: श्री गणेश अष्टोत्तर नामावलि (108 Shri Ganesh Ji)

फूलो से अंगना सजाउंगी: भजन (Phoolon Se Angana Sajaungi)

मुझे कौन जानता था तेरी बंदगी से पहले: भजन (Mujhe Kaun Poochhta Tha Teri Bandagi Se Pahle)

श्री कृष्णाष्टकम् (Shri Krishnashtakam)

बधाई भजन: बजे कुण्डलपर में बधाई, के नगरी में वीर जन्मे (Badhai Bhajan Baje Kundalpur Me Badayi Nagri Me Veer Janme)

श्री सत्यनारायण कथा - पंचम अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Pancham Adhyay)

राधाकृष्ण प्राण मोर युगल-किशोर ( RadhaKrishn Prana Mora Yugal Kishor)

श्री बद्रीनाथजी की आरती (Shri Badrinath Aarti)