मन फूला फूला फिरे जगत में: भजन (Mann Fula Fula Phire Jagat Mein)

मन फूला फूला फिरे,

जगत में कैसा नाता रे ॥

मन फूला फूला फिरे,

जगत में कैसा नाता रे ॥




माता कहे यह पुत्र हमारा,


बहन कहे बीर मेरा,


भाई कहे यह भुजा हमारी,


नारी कहे नर मेरा,


जगत में कैसा नाता रे ॥



मन फूला फूला फिरे,

जगत में कैसा नाता रे ॥




पेट पकड़ के माता रोवे,


बांह पकड़ के भाई,


लपट झपट के तिरिया रोवे,


हंस अकेला जाए,


जगत में कैसा नाता रे ॥



मन फूला फूला फिरे,

जगत में कैसा नाता रे ॥




जब तक जीवे माता रोवे,


बहन रोवे दस मासा,


तेरह दिन तक तिरिया रोवे,


फेर करे घर वासा,


जगत में कैसा नाता रे ॥



मन फूला फूला फिरे,

जगत में कैसा नाता रे ॥




चार जणा मिल गजी बनाई,


चढ़ा काठ की घोड़ी,


चार कोने आग लगाई,


फूंक दियो जस होरी,


जगत में कैसा नाता रे ॥



मन फूला फूला फिरे,

जगत में कैसा नाता रे ॥




हाड़ जले जस लाकड़ी रे,


केश जले जस घास,


सोना जैसी काया जल गई,


कोइ न आयो पास,


जगत में कैसा नाता रे ॥



मन फूला फूला फिरे,

जगत में कैसा नाता रे ॥




घर की तिरिया ढूंढन लागी,


ढुंडी फिरि चहु देशा,


कहत कबीर सुनो भई साधो,


छोड़ो जगत की आशा,


जगत में कैसा नाता रे ॥



मन फूला फूला फिरे,

जगत में कैसा नाता रे ॥

मन फूला फूला फिरे,

जगत में कैसा नाता रे ॥

भजन: बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया (Brindavan Ka Krishan Kanhaiya Sabki Aankhon Ka Tara)

रघुवर श्री रामचन्द्र जी आरती (Raghuvar Shri Ramchandra Ji)

भजन: धरा पर अँधेरा बहुत छा रहा है (Bhajan: Dhara Par Andhera Bahut Chha Raha Hai)

गुरु भजन: दर्शन देता जाइजो जी.. (Darshan Deta Jaijo Ji Satguru Milata Jaiyo Ji)

मन मोहन मूरत तेरी प्रभु: भजन (Mann Mohan Murat Teri Prabhu)

होता है सारे विश्व का, कल्याण यज्ञ से। (Hota Hai Sare Vishwa Ka Kalyan Yajya Se)

माँ सरस्वती अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली (Sarasvati Ashtottara Shatnam Namavali)

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी: होली भजन (Hari Sir Dhare Mukut Khele Hori)

कहियो दर्शन दीन्हे हो, भीलनियों के राम: भजन (Kahiyo Darshan Dinhe Ho Bhilaniyo Ke Ram)

तू शब्दों का दास रे जोगी: भजन (Tu Sabdon Ka Das Re Jogi)

रामा रामा रटते रटते, बीती रे उमरिया: भजन (Rama Rama Ratate Ratate)

भजन: शिव उठत, शिव चलत, शिव शाम-भोर है। (Shiv Uthat Shiv Chalat Shiv Sham Bhor Hai)