अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं। (Ajab Hairan Hoon Bhagawan Tumhen Kaise Rijhaon Main)

अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं।

कोई वस्तु नहीं ऐसी। जिसे सेवा में लाऊं मैं॥



करें किस तौर आवाहन कि तुम मौजूद हो हर जां।

निरादर है बुलाने को। अगर घंटी बजाऊं मैं॥



तुम्हीं हो मूर्ति में भी। तुम्हीं व्यापक हो फूलों में।

भला भगवान पर भगवान को कैसे चढाऊं मैं॥



लगाना भोग कुछ तुमको। यह एक अपमान करना है।

खिलाता है जो सब जग को। उसे कैसे खिलाऊं मैं॥



तुम्हारी ज्योति से रोशन हैं। सूरज। चांद और तारे।

महा अन्धेर है कैसे तुम्हें दीपक दिखाऊं मैं॥



भुजाएं हैं। न गर्दन है। न सीना है न पेशानी।

तुम हो निर्लेप नारायण। कहां चंदन लगाऊँ मैं॥



बड़े नादान है वे जन जो गढ़ते आपकी मूरत।

बनाता है जो सब जग को। उसे कैसे बनाऊँ मैं॥



अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं।

कोई वस्तु नहीं ऐसी। जिसे सेवा में लाऊं मैं॥



अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं।

कोई वस्तु नहीं ऐसी। जिसे सेवा में लाऊं मैं॥

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 29 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 29)

श्री शङ्कराचार्य कृतं - वेदसारशिवस्तोत्रम् (Vedsara Shiv Stotram)

वृंदावनी वेणू: भजन (Vrindavani Venu)

भजन: आ माँ आ तुझे दिल ने पुकारा। (Aa Maa Aa Tujhe Dil Ne Pukara)

कैसी यह देर लगाई दुर्गे... (Kaisi Yeh Der Lagayi Durge)

जन्माष्टमी भजन: नन्द के आनंद भयो (Nand Ke Anand Bhayo)

जयति जयति जग-निवास, शंकर सुखकारी (Jayati Jayati Jag Niwas Shankar Sukhkari)

मधुराष्टकम्: अधरं मधुरं वदनं मधुरं - श्रीवल्लभाचार्य कृत (Madhurashtakam Adhram Madhuram Vadnam Madhuram)

भजन: लेके गौरा जी को साथ भोले-भाले भोले नाथ! (Leke Gaura Ji Ko Sath Bhole Bhale Bhole Nath)

बधाई भजन: बजे कुण्डलपर में बधाई, के नगरी में वीर जन्मे (Badhai Bhajan Baje Kundalpur Me Badayi Nagri Me Veer Janme)

खजुराहो: ब्रह्मानंदम परम सुखदम (Khajuraho: Brahamanandam, Paramsukhdam)

पकड़ लो बाँह रघुराई, नहीं तो डूब जाएँगे: भजन (Pakadlo Bah Raghurai, Nahi Too Doob Jayenge)