भजन: द्वार पे गुरुदेव के हम आगए (Dwar Pe Gurudev Ke Ham Aagaye)

द्वार पे गुरुदेव के हम आ गए ।

ज्योति में दर्शन गुरु का पा गए ॥



देखलो हमको भला दर्शन हुआ ।

प्रेम हिरदे में मगन प्रसन्न हुआ ॥



हर तरफ आनन्द ही आनन्द छा गए ।

ज्योति में दर्शन गुरु का पा गए ॥



भाव श्रद्धा के सुमन अर्पण करें ।

रात दिन हरि हरि सुमरण करें ॥



मंत्र सतगुरुजी हमें बतला गए ।

ज्योति में दर्शन गुरु का पा गए ॥

चित्रगुप्त की कथा - यम द्वितीया (Chitragupt Ji Ki Katha - Yam Dwitiya)

जरा देर ठहरो राम तमन्ना यही है: भजन (Jara Der Thehro Ram Tamanna Yahi Hai)

श्री बालाजी आरती, ॐ जय हनुमत वीरा (Shri Balaji Ki Aarti, Om Jai Hanumat Veera)

भजन: जीवन है तेरे हवाले, मुरलिया वाले.. (Jeevan Hai Tere Hawale Muraliya Wale)

श्री सत्यनारायण कथा - चतुर्थ अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Chaturth Adhyay)

मुरली बजा के मोहना! (Murli Bajake Mohana Kyon Karliya Kinara)

दुनिया मे देव हजारो हैं बजरंग बली का क्या कहना (Duniya Me Dev Hazaro Hai Bajrangbali Ka Kya Kahna)

करवा चौथ व्रत कथा: द्रौपदी को श्री कृष्ण ने सुनाई कथा! (Karwa Chauth Vrat Katha)

पार्वती वल्लभा अष्टकम् (Parvati Vallabha Ashtakam)

सवारिये ने भूलूं न एक घडी! (Sanwariye Ne Bhule Naa Ek Ghadi)

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की - माँ संतोषी भजन (Main Toh Aarti Utaru Re Santoshi Mata Ki)

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन: भजन (Bhajan: Hey Dukh Bhanjan Maruti Nandan)