सवारिये ने भूलूं न एक घडी! (Sanwariye Ne Bhule Naa Ek Ghadi)

पूरन ब्रह्म पूरन ज्ञान

है घाट माई, सो आयो रहा आनन्द

और सुनी मुनि जन, पढ़त वेद शास्त्र अंग

मारी जनम गोकुल मे घटे

मिटत सब दुःख दुःख

आज को आनंद आनंद आनंद

आज ही आनंद आनंद आनंद



मथुरा नगर मे, जनम पायो

हो मथुरा नगर मे, जनम पायो

हो खेलत खेले गोकुल री गली

सवारिये ने भूलूं न एक घडी

हो भूलूं न एक घडी, सवारिये भूलूं न एक घडी...



हो खेले गोकुल पूरी गली

सावरिये ने भूलूं न एक घडी

कृषण जी को भूलूं न एक घडी

हो भूलूं न एक घडी, सवारिये भूलूं न एक घडी..



मात यशोदा पालन हीडोले

हाथ मे रेशम री छड़ी

सावरिये ने भूलूं ने एक घडी

कृषण (कृष्णा) जी को भूलूं न एक घडी



कानु (कृष्णा) मारे जीव री झड़ी

सावरिये ने भूलूं ने एक घडी

कृषण जी को भूलूं न एक घडी



मात यशोदा दहिड़ो बिलोवे

हो हाथ में माखन री डली

सावरिये ने भूलूं ने एक घडी

कृषण जी को भूलूं न एक घडी



मीरा के प्रभु गिरधर नागर

हो खोजो खोजो खबर बड़ी

बालुड़े ने भूलूं न एक घडी

कानु (कृष्णा) मारे जीव री झड़ी

सावरिये ने भूलूं ने एक घडी

कृषण जी को भूलूं न एक घडी

धर्मराज आरती - धर्मराज कर सिद्ध काज (Dharmraj Ki Aarti - Dharmraj Kar Siddh Kaaj)

ऐसे मेरे मन में विराजिये: भजन (Aaise Mere Maan Main Virajiye)

दुनिया मे देव हजारो हैं बजरंग बली का क्या कहना (Duniya Me Dev Hazaro Hai Bajrangbali Ka Kya Kahna)

भजन: धरा पर अँधेरा बहुत छा रहा है (Bhajan: Dhara Par Andhera Bahut Chha Raha Hai)

भजन: बाँधा था द्रौपदी ने तुम्हे (Bandha Tha Draupadi Ne Tumhe Char Taar Main)

तुम करुणा के सागर हो प्रभु: भजन (Tum Karuna Ke Sagar Ho Prabhu)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 2 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 2)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 10 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 10)

भजन: किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए.. (Kishori Kuch Aisa Intazam Ho Jaye)

मन मेरा मंदिर, शिव मेरी पूजा: भजन (Man Mera Mandir Shiv Meri Pooja)

बताओ कहाँ मिलेगा श्याम: भजन (Batao Kahan Milega Shyam)

तुलसी आरती - महारानी नमो-नमो (Tulsi Aarti - Maharani Namo Namo)