सवारिये ने भूलूं न एक घडी! (Sanwariye Ne Bhule Naa Ek Ghadi)

पूरन ब्रह्म पूरन ज्ञान

है घाट माई, सो आयो रहा आनन्द

और सुनी मुनि जन, पढ़त वेद शास्त्र अंग

मारी जनम गोकुल मे घटे

मिटत सब दुःख दुःख

आज को आनंद आनंद आनंद

आज ही आनंद आनंद आनंद



मथुरा नगर मे, जनम पायो

हो मथुरा नगर मे, जनम पायो

हो खेलत खेले गोकुल री गली

सवारिये ने भूलूं न एक घडी

हो भूलूं न एक घडी, सवारिये भूलूं न एक घडी...



हो खेले गोकुल पूरी गली

सावरिये ने भूलूं न एक घडी

कृषण जी को भूलूं न एक घडी

हो भूलूं न एक घडी, सवारिये भूलूं न एक घडी..



मात यशोदा पालन हीडोले

हाथ मे रेशम री छड़ी

सावरिये ने भूलूं ने एक घडी

कृषण (कृष्णा) जी को भूलूं न एक घडी



कानु (कृष्णा) मारे जीव री झड़ी

सावरिये ने भूलूं ने एक घडी

कृषण जी को भूलूं न एक घडी



मात यशोदा दहिड़ो बिलोवे

हो हाथ में माखन री डली

सावरिये ने भूलूं ने एक घडी

कृषण जी को भूलूं न एक घडी



मीरा के प्रभु गिरधर नागर

हो खोजो खोजो खबर बड़ी

बालुड़े ने भूलूं न एक घडी

कानु (कृष्णा) मारे जीव री झड़ी

सावरिये ने भूलूं ने एक घडी

कृषण जी को भूलूं न एक घडी

भजन: मेरो लाला झूले पालना, नित होले झोटा दीजो ! (Mero Lala Jhule Palna Nit Hole Jhota Dijo)

भजन: बाल गोपाला, प्यारे मुरारी मोरे नन्द लाला! (Bhajan: Baal Gopala Pyare Murari More Nandlala)

भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में! (Shri Ram Janki Baithe Hain Mere Seene Me Bhajan)

ना मन हूँ ना बुद्धि ना चित अहंकार: भजन (Na Mann Hun Na Buddhi Na Chit Ahankar)

राम नाम के हीरे मोती, मैं बिखराऊँ गली गली। (Ram Nam Ke Heere Moti Main Bikhraun Gali Gali)

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे! (Kabhi Fursat Ho To Jagdambe)

गौरी के नंदा गजानन, गौरी के नन्दा: भजन (Gauri Ke Nanda Gajanand Gauri Ke Nanda)

वीरो के भी शिरोमणि, हनुमान जब चले: भजन (Veeron Ke Shiromani, Hanuman Jab Chale)

॥श्रीमहालक्ष्मीस्तोत्रम् विष्णुपुराणान्तर्गतम्॥ (Mahalakshmi Stotram From Vishnupuran)

भजन: तुम से लागी लगन.. पारस प्यारा (Tumse Lagi Lagan Le Lo Apni Sharan Paras Pyara)

नाकोड़ा के भैरव तुमको आना होगा: भजन (Nakoda Ke Bhairav Tumko Aana Hoga)

मेरी आखिओं के सामने ही रहना: भजन (Meri Akhion Ke Samne Hi Rehina Oh Shero Wali Jagdambe)