मीरा दीवानी हो गयी रे..: भजन (Meera Deewani Ho Gayi Re..)

मीरा दीवानी हो गयी रे, मीरा दीवानी हो गयी ।

मीरा मस्तानी हो गयी रे, मीरा मस्तानी हो गयी ॥

शयम रंग में रंगी चुनरिया, हो हो हो हो..

॥ मीरा दीवानी हो गयी रे...॥



राणा की राजधानी छोड़ी लोक लाज सब छोड़ी,

रंग के श्याम रंग में चुनर मीरा जी ने ओडी ।

लोक लाज की नहीं खबरिया, हो ओ ओ..

॥ मीरा दीवानी हो गयी रे...॥



इस दुनिया से प्रीत तोड़के श्यामल रंग चढ़ाया,

साथ सभी का छोड़ दिया और गिरिधर गिरिधर गाया ।

वो तो ऐसी भाई बावरिया, हो ओ ओ..

॥ मीरा दीवानी हो गयी रे...॥



पैरों में वो घुँघरू बाँध के झूमे नाचे गाए,

भई विहरनी श्याम विरहा और ना कोई है भाए ।

वृन्दावन की गयी डगरिया, हो हो हो..

॥ मीरा दीवानी हो गयी रे...॥



लगन लगी तेरे दरश की और ना कोई भाए,

गली गली तोहे ढूंढती ढोले कही ना फिर वो पाए ।

तेरे दर पे बीती उमरिया, हो ओ ओ..

॥ मीरा दीवानी हो गयी रे...॥



मीरा दीवानी हो गयी रे, मीरा दीवानी हो गयी ।

मीरा मस्तानी हो गयी रे, मीरा मस्तानी हो गयी ॥

शयम रंग में रंगी चुनरिया, हो हो हो हो..

आरती: श्री रामायण जी (Shri Ramayan Ji)

सदाशिव सर्व वरदाता, दिगम्बर हो तो ऐसा हो - भजन (Sada Shiv Sarva Var Data Digamber Ho To Aisa Ho)

श्री सत्यनारायण कथा - तृतीय अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Tritiya Adhyay)

देवशयनी एकादशी व्रत कथा! (Devshayani Ekadashi Vrat Katha)

श्री शीतलाष्टक स्तोत्र (Shri Sheetla Ashtakam)

ऐ मुरली वाले मेरे कन्हैया, बिना तुम्हारे.. (Ae Murliwale Mere Kanhaiya, Bina Tumhare Tadap Rahe Hain)

भजन: जो खेल गये प्राणो पे, श्री राम के लिए! (Jo Khel Gaye Parano Pe Bhajan)

आदित्य-हृदय स्तोत्र (Aditya Hridaya Stotra)

हिरण्यगर्भ दूधेश्वर ज्योतिर्लिंग प्रादुर्भाव पौराणिक कथा! (Hiranyagarbh Shri Dudheshwarnath Mahadev Utpatti Pauranik Katha)

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो: भजन (Chalo Shiv Shankar Ke Mandir Me Bhakto)

मन फूला फूला फिरे जगत में: भजन (Mann Fula Fula Phire Jagat Mein)

कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन मनावणा (Kahna Ve Assan Tera Janmdin Manavna)