काक चेष्टा, बको ध्यानं: आदर्श विद्यार्थी के पांच लक्षण (Kaak Cheshta Vidyarthee Ke Panch Gun)

काक चेष्टा, बको ध्यानं,


स्वान निद्रा तथैव च ।


अल्पहारी, गृहत्यागी,


विद्यार्थी पंच लक्षणं ॥




हिन्दी भावार्थ:

एक विद्यार्थी मे यह पांच लक्षण होने चाहिए..


कौवे
की तरह जानने की चेष्टा,


बगुले
की तरह ध्यान,


कुत्ते
की तरह सोना / निंद्रा


अल्पाहारी
, आवश्यकतानुसार खाने वाला

और
गृह-त्यागी
होना चाहिए

करती हूँ तुम्हारा व्रत मैं - माँ संतोषी भजन (Karti Hu Tumhara Vrat Main)

ऐसा प्यार बहा दे मैया: भजन (Aisa Pyar Baha De Maiya)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 24 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 24)

जरा देर ठहरो राम तमन्ना यही है: भजन (Jara Der Thehro Ram Tamanna Yahi Hai)

आरती: श्री पार्वती माँ (Shri Parvati Maa)

तू शब्दों का दास रे जोगी: भजन (Tu Sabdon Ka Das Re Jogi)

ले चल अपनी नागरिया, अवध बिहारी साँवरियाँ: भजन (Le Chal Apni Nagariya, Avadh Bihari Sanvariya)

कृपा की न होती जो, आदत तुम्हारी: भजन (Kirpa Ki Na Hoti Jo Addat Tumhari)

विनती: दीनानाथ मेरी बात, छानी कोणी तेरे से (Dinanath Meri Baat Chani Koni Tere Se)

पत्नीं मनोरमां देहि - सुंदर पत्नी प्राप्ति मंत्र (Patni Manoraman Dehi)

तुलसी आरती - महारानी नमो-नमो (Tulsi Aarti - Maharani Namo Namo)

सखी री बांके बिहारी से हमारी लड़ गयी अंखियाँ (Sakhi Ri Bank Bihaari Se Hamari Ladgayi Akhiyan)