रघुवर श्री रामचन्द्र जी आरती (Raghuvar Shri Ramchandra Ji)

श्री राम नवमी, विजय दशमी, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से की जाने वाली आरती।



आरती कीजै श्री रघुवर जी की,

सत चित आनन्द शिव सुन्दर की॥



दशरथ तनय कौशल्या नन्दन,

सुर मुनि रक्षक दैत्य निकन्दन॥



अनुगत भक्त भक्त उर चन्दन,

मर्यादा पुरुषोत्तम वर की॥



निर्गुण सगुण अनूप रूप निधि,

सकल लोक वन्दित विभिन्न विधि॥



हरण शोक-भय दायक नव निधि,

माया रहित दिव्य नर वर की॥



जानकी पति सुर अधिपति जगपति,

अखिल लोक पालक त्रिलोक गति॥



विश्व वन्द्य अवन्ह अमित गति,

एक मात्र गति सचराचर की॥



शरणागत वत्सल व्रतधारी,

भक्त कल्प तरुवर असुरारी॥



नाम लेत जग पावनकारी,

वानर सखा दीन दुख हर की॥

भजन: तेरा किसने किया श्रृंगार सांवरे (Tera Kisne Kiya Shringar Sanware)

नगरी हो अयोध्या सी, रघुकुल सा घराना हो (Nagri Ho Ayodhya Si, Raghukul Sa Gharana Ho)

भजन: दुनिया बनाने वाले महिमा तेरी निराली। (Bhajan: Duniya Banane Wale Mahima Teri Nirali)

बताओ कहाँ मिलेगा श्याम: भजन (Batao Kahan Milega Shyam)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 22 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 22)

रंगीलो मेरो बनवारी: होली भजन (Rangilo Mero Banwari)

श्री जग्गनाथ आरती - चतुर्भुज जगन्नाथ (Shri Jagganath Aarti - Chaturbhuja Jagannatha)

इस योग्य हम कहाँ हैं, गुरुवर तुम्हें रिझायें: भजन (Is Yogya Ham Kahan Hain, Guruwar Tumhen Rijhayen)

प्रभु हम पे कृपा करना, प्रभु हम पे दया करना: भजन (Prabhu Humpe Daya Karna)

गणनायकाय गणदेवताय गणाध्यक्षाय धीमहि। (Gananaykay Gandevatay Ganadhyakshay Dheemahi)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 4 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 4)

श्री युगलाष्टकम् - कृष्ण प्रेममयी राधा (Yugal Ashtakam - Krishna Premayi Radha)