रघुवर श्री रामचन्द्र जी आरती (Raghuvar Shri Ramchandra Ji)

श्री राम नवमी, विजय दशमी, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से की जाने वाली आरती।



आरती कीजै श्री रघुवर जी की,

सत चित आनन्द शिव सुन्दर की॥



दशरथ तनय कौशल्या नन्दन,

सुर मुनि रक्षक दैत्य निकन्दन॥



अनुगत भक्त भक्त उर चन्दन,

मर्यादा पुरुषोत्तम वर की॥



निर्गुण सगुण अनूप रूप निधि,

सकल लोक वन्दित विभिन्न विधि॥



हरण शोक-भय दायक नव निधि,

माया रहित दिव्य नर वर की॥



जानकी पति सुर अधिपति जगपति,

अखिल लोक पालक त्रिलोक गति॥



विश्व वन्द्य अवन्ह अमित गति,

एक मात्र गति सचराचर की॥



शरणागत वत्सल व्रतधारी,

भक्त कल्प तरुवर असुरारी॥



नाम लेत जग पावनकारी,

वानर सखा दीन दुख हर की॥

श्री राधे गोविंदा, मन भज ले हरी का प्यारा नाम है। (Shri Radhe Govinda Man Bhaj Le Hari Ka Pyara Naam Hai)

बनवारी रे! जीने का सहारा तेरा नाम रे: भजन (Banwari Re Jeene Ka Sahara Tera Naam Re)

आरती: जय जय तुलसी माता (Aarti: Jai Jai Tulsi Mata)

लाल लंगोटे वाले वीर हनुमान है: भजन (Lal Langote Wale Veer Hanuman Hai)

वो कौन है जिसने हम को दी पहचान है (Wo Kon Hai Jisne Humko Di Pahachan Hai)

माता सीता अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली (Sita Ashtottara Shatnam Namavali)

छठ पूजा: कांच ही बांस के बहंगिया (Chhath: Kanch Hi Bans Ke Bahangiya)

काली कमली वाला मेरा यार है: भजन (Kali Kamali Wala Mera Yar Hai)

श्यामा तेरे चरणों की, गर धूल जो मिल जाए: भजन (Shyama Tere Charno Ki, Gar Dhool Jo Mil Jaye)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 6 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 6)

देवोत्थान / प्रबोधिनी एकादशी व्रत कथा (Devutthana Ekadashi Vrat Katha)

आजा माँ तेनु अखियां उडीकदीयां: भजन (Aja Maa Tenu Ankhiyan Udeekdiyan)