लाल लंगोटे वाले वीर हनुमान है: भजन (Lal Langote Wale Veer Hanuman Hai)

लाल लंगोटे वाले वीर हनुमान है,

हनुमान गढ़ी में बैठे,

अयोध्या की शान है,

लाल लंगोटे वालें वीर हनुमान है ॥




बजरंगी का हूँ मैं दीवाना,


हर दम गाऊं यही तराना,


तेरा ही इस जीवन पर एहसान है ॥



हनुमान गढ़ी में बैठे,

अयोध्या की शान है,

लाल लंगोटे वालें वीर हनुमान है ॥




तू मेरा मैं तेरा प्यारे,


ये जीवन अब तेरे सहारे,


बजरंगी ही सब भक्तों की जान है ॥



हनुमान गढ़ी में बैठे,

अयोध्या की शान है,

लाल लंगोटे वालें वीर हनुमान है ॥




पागल प्रीत की एक ही आशा,


दर्दे दिल दर्शन का प्यासा,


बजरंगी से ही भक्तों का सामान है ॥



हनुमान गढ़ी में बैठे,

अयोध्या की शान है,

लाल लंगोटे वालें वीर हनुमान है ॥




तुझको अपना मान लिया है,


जीवन तेरे नाम किया है,


‘गुरु ब्रजमोहन देवेंद्र’ का तुझसे मान है ॥



हनुमान गढ़ी में बैठे,

अयोध्या की शान है,

लाल लंगोटे वालें वीर हनुमान है ॥



लाल लंगोटे वाले वीर हनुमान है,

हनुमान गढ़ी में बैठे,

अयोध्या की शान है,

लाल लंगोटे वालें वीर हनुमान है।।

राम नाम के हीरे मोती, मैं बिखराऊँ गली गली। (Ram Nam Ke Heere Moti Main Bikhraun Gali Gali)

भगवान श्री कुबेर जी आरती (Bhagwan Shri Kuber Ji Aarti)

माता रानी के भजन (Mata Rani Ke Bhajan)

कभी राम बनके, कभी श्याम बनके भजन (Bhajan: Kabhi Ram Banake Kabhi Shyam Banake)

जन्माष्टमी भजन: यगोविंदा आला रे आला... (Govinda Aala Re Aala)

हम तो दीवाने मुरलिया के, अजा अजा रे लाल यशोदा के (Hum Too Diwane Muraliya Ke Aaja Aaje Re Lal Yashoda Ke)

श्री शनि देव: आरती कीजै नरसिंह कुंवर की (Shri Shani Dev Aarti Keejai Narasinh Kunwar Ki)

छठ पूजा: पहिले पहिल, छठी मईया व्रत तोहार। (Chhath Puja: Pahile Pahil Chhathi Maiya)

प्रभु हम पे कृपा करना, प्रभु हम पे दया करना: भजन (Prabhu Humpe Daya Karna)

मन मेरा मंदिर, शिव मेरी पूजा: भजन (Man Mera Mandir Shiv Meri Pooja)

श्री जगन्नाथ संध्या आरती (Shri Jagganath Sandhya Aarti)

दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ: भजन (Durga Hai Meri Maa Ambe Hai Meri Maa)