लाल लंगोटे वाले वीर हनुमान है: भजन (Lal Langote Wale Veer Hanuman Hai)

लाल लंगोटे वाले वीर हनुमान है,

हनुमान गढ़ी में बैठे,

अयोध्या की शान है,

लाल लंगोटे वालें वीर हनुमान है ॥




बजरंगी का हूँ मैं दीवाना,


हर दम गाऊं यही तराना,


तेरा ही इस जीवन पर एहसान है ॥



हनुमान गढ़ी में बैठे,

अयोध्या की शान है,

लाल लंगोटे वालें वीर हनुमान है ॥




तू मेरा मैं तेरा प्यारे,


ये जीवन अब तेरे सहारे,


बजरंगी ही सब भक्तों की जान है ॥



हनुमान गढ़ी में बैठे,

अयोध्या की शान है,

लाल लंगोटे वालें वीर हनुमान है ॥




पागल प्रीत की एक ही आशा,


दर्दे दिल दर्शन का प्यासा,


बजरंगी से ही भक्तों का सामान है ॥



हनुमान गढ़ी में बैठे,

अयोध्या की शान है,

लाल लंगोटे वालें वीर हनुमान है ॥




तुझको अपना मान लिया है,


जीवन तेरे नाम किया है,


‘गुरु ब्रजमोहन देवेंद्र’ का तुझसे मान है ॥



हनुमान गढ़ी में बैठे,

अयोध्या की शान है,

लाल लंगोटे वालें वीर हनुमान है ॥



लाल लंगोटे वाले वीर हनुमान है,

हनुमान गढ़ी में बैठे,

अयोध्या की शान है,

लाल लंगोटे वालें वीर हनुमान है।।

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 30 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 30)

मेरी भावना: जिसने राग-द्वेष कामादिक - जैन पाठ (Meri Bawana - Jisne Raag Dwesh Jain Path)

माता सीता अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली (Sita Ashtottara Shatnam Namavali)

गुरु भजन: दर्शन देता जाइजो जी.. (Darshan Deta Jaijo Ji Satguru Milata Jaiyo Ji)

शीतला अष्टमी व्रत कथा (Sheetala Ashtami Vrat Katha)

श्री शङ्कराचार्य कृतं - अच्युतस्याष्टकम् (Achyutashtakam Acyutam Keshavam Ramanarayanam)

ऋणहर्ता गणेश स्तोत्र (Rin Harta Shri Ganesh Stotra)

राम नाम के हीरे मोती, मैं बिखराऊँ गली गली। (Ram Nam Ke Heere Moti Main Bikhraun Gali Gali)

भजमन राम चरण सुखदाई: भजन (Bhajman Ram Charan Sukhdayi)

श्रीहनुमत् पञ्चरत्नम् (Shri Hanumat Pancharatnam)

कर प्रणाम तेरे चरणों में: प्रार्थना (Kar Pranam Tere Charno Me: Morning Prarthana)

मुरली वाले ने घेर लयी, अकेली पनिया गयी: भजन (Murli Wale Ne Gher Layi)