राधिके ले चल परली पार - भजन (Radhike Le Chal Parli Paar)

गलियां चारों बंद हुई,

मिलूं कैसे हरी से जाये ।

ऊंची नीची राह रपटीली,

पाओ नहीं ठहराए ।

सोच सोच पग धरु जतन से,

बार बार डिग जाये ।

अब राधे के सिवा कोई न,

परली पार लागए ।

परली पार लागए,

परली पार लागए,

परली पार लागए ।



राधिके ले चल परली* पार,

राधिके ले चल परली पार

जहाँ विराजे नटवर नागर,

जहाँ विराजे नटवर नागर

नटखट नन्द कुमार...



किशोरी ले चल परली पार,

राधिके ले चल परली पार

किशोरी ले चल परली पार,

श्यामा चल परली पार



गुण अवगुण सब उनको अर्पण,

पाप पुन्य सब उनको समर्पण

मैं उनके चरनन की दासी,

मैं उनके चरनन की दासी

वो है प्राण आधार...



किशोरी ले चल परली पार,

राधिके ले चल परली पार

किशोरी ले चल परली पार,

श्यामा चल परली पार



उनसे आस लगा बैठी हूँ,

लज्जा शील गवा बैठी हूँ

सवरिया मैं तेरी रागनी,

सवरिया मैं तेरी रागनी

तू मेरा मल्हार...



किशोरी ले चल परली पार,

राधिके ले चल परली पार

किशोरी ले चल परली पार,

श्यामा चल परली पार



तेरे सिवा कुछ चाह नहीं है,

कोई सूझती राह नहीं है

मेरे प्रीतम मेरे मांझी,

मेरे प्रीतम मेरे मांझी

सुनए करुण पुकार...



किशोरी ले चल परली पार,

राधिके ले चल परली पार

किशोरी ले चल परली पार,

श्यामा चल परली पार



आनदं धन यहाँ बरस रहा है,

पत्ता पत्ता हरस रहा है

बहुत हुई अब हार गई मैं,

बहुत हुई अब हार गई मैं

पड़ी पड़ी मझधार...



किशोरी ले चल परली पार,

राधिके ले चल परली पार

किशोरी ले चल परली पार,

श्यामा चल परली पार



राधिके ले चल परली पार,

राधिके ले चल परली पार

जहाँ विराजे नटवर नागर,

जहाँ विराजे नटवर नागर

नटखट नन्द कुमार...



किशोरी ले चल परली पार,

राधिके ले चल परली पार

किशोरी ले चल परली पार,

श्यामा चल परली पार



* परली: दूसरी छोर (other side of river)

श्री पंच-तत्व प्रणाम मंत्र (Panch Tattva Pranam Mantra)

जन्म बधाई भजन: घर घर बधाई बाजे रे देखो (Ghar Ghar Badhai Baje Re Dekho)

महा शिवरात्रि पूजन पौराणिक व्रत कथा (Maha Shivaratri Pujan Pauranik Vrat Katha)

सकट चौथ व्रत कथा: एक साहूकार और साहूकारनी (Sakat Chauth Pauranik Vrat Katha - Ek Sahukar Aur Ek Sahukarni)

हे मेरे गुरुदेव करुणा सिन्धु करुणा कीजिये! (He Mere Gurudev Karuna Sindhu Karuna Keejiye)

भजन: खाटू का राजा मेहर करो (Khatu Ka Raja Mehar Karo)

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी: भजन (Ik Din Vo Bhole Bhandari Banke Braj Ki Nari)

भजन करो मित्र मिला आश्रम नरतन का: भजन (Bhajan Karo Mitra Mila Ashram Nartan Ka)

तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है: भजन (Tere Darbar Mein Maiya Khushi Milti Hai)

हरतालिका तीज व्रत कथा (Hartalika Teej Vrat Katha)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 3 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 3)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 4 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 4)