अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं: भजन (Achyutam Keshavam Krishna Damodaram)

श्री राम नवमी, विजय दशमी, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से गाये जाने वाला भजन।



अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं,

राम नारायणं जानकी बल्लभम।



कौन कहता हे भगवान आते नहीं,

तुम मीरा के जैसे बुलाते नहीं।



कौन कहता है भगवान खाते नहीं,

बेर शबरी के जैसे खिलाते नहीं।



कौन कहता है भगवान सोते नहीं,

माँ यशोदा के जैसे सुलाते नहीं।



कौन कहता है भगवान नाचते नहीं,

गोपियों की तरह तुम नचाते नहीं।



नाम जपते चलो काम करते चलो,

हर समय कृष्ण का ध्यान करते चलो।



याद आएगी उनको कभी ना कभी,

कृष्ण दर्शन तो देंगे कभी ना कभी।

जानकी स्तुति - भइ प्रगट किशोरी (Janaki Stuti - Bhai Pragat Kishori)

नाकोड़ा के भैरव तुमको आना होगा: भजन (Nakoda Ke Bhairav Tumko Aana Hoga)

पत्नीं मनोरमां देहि - सुंदर पत्नी प्राप्ति मंत्र (Patni Manoraman Dehi)

राम के दुलारे, माता जानकी के प्यारे: भजन (Ram Ke Dulare, Mata Janki Ke Pyare)

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े: भजन (Ude Ude Bajrangbali, Jab Ude Ude)

सज रही मेरी अम्बे मैया - माता भजन (Saj Rahi Meri Ambe Maiya Sunahare Gote Mein)

मिलता है सच्चा सुख केवल भगवान! (Milta Hai Sachha Sukh Keval Bhagwan Tere Charno Me)

भजन: शिव उठत, शिव चलत, शिव शाम-भोर है। (Shiv Uthat Shiv Chalat Shiv Sham Bhor Hai)

भजन: अयोध्या करती है आव्हान.. (Ayodhya Karti Hai Awhan)

एकादशी माता की आरती (Ekadashi Mata Ki Aarti)

जबसे बरसाने में आई, मैं बड़ी मस्ती में हूँ! (Jab Se Barsane Me Aayi Main Badi Masti Me Hun)

देना हो तो दीजिए जनम जनम का साथ। (Dena Ho To Dijiye Janam Janam Ka Sath)