कीर्तन रचो है म्हारे आंगने - भजन (Kirtan Racho Hai Mhare Angane)

कीर्तन रचो है म्हारे आंगने,

आओ-आओ गौरा जी रा लाल,

कारज सफल करो ।



रिधि-सिद्धि ने सागे लया,

जो अनधन सा भरे जो भंडार,

कारज सफल करो ।



आओ-आओ गौरा जी रा लाल,

कारज सफल करो ।



सोने री थाली में मोदक ल्याया बाबा,

थे पाओ गोरा जी रा लाल

कारज सफल करो ।



आओ-आओ गौरा जी रा लाल,

कारज सफल करो ।



फुल्डा माला लाया विनायक,

म्हारे सिर पर रख दीज्यो हाथ,

कारज सफल करो ।



आओ-आओ गौरा जी रा लाल,

कारज सफल करो ।

यही आशा लेकर आती हूँ: भजन (Bhajan: Yahi Aasha Lekar Aati Hu)

भजन: थारी जय जो पवन कुमार! (Bhajan: Thari Jai Ho Pavan Kumar Balihari Jaun Balaji)

श्री राधा: आरती श्री वृषभानुसुता की (Shri Radha Ji: Aarti Shri Vrashbhanusuta Ki)

तन के तम्बूरे में, दो सांसो की तार बोले! (Tan Ke Tambure Me Do Sanso Ki Tar Bole)

शीतला अष्टमी व्रत कथा (Sheetala Ashtami Vrat Katha)

तेरे द्वार खड़ा भगवान, भक्त भर..: भजन (Tere Dwaar Khada Bhagawan Bhagat Bhar De Re Jholi)

भजन: सांवली सूरत पे मोहन, दिल दीवाना हो गया! (Sanwali Surat Pe Mohan Dil Diwana Ho Gaya)

हमारे हैं श्री गुरुदेव, हमें किस बात की चिंता (Hamare Hain Shri Gurudev Humen Kis Bat Ki Chinta)

जय जय राधा रमण हरी बोल: भजन (Jai Jai Radha Raman Hari Bol)

मीरा बाई भजन: ऐ री मैं तो प्रेम-दिवानी (Ae Ri Main To Prem Diwani)

भेजा है बुलावा, तूने शेरा वालिए: भजन (Bheja Hai Bulava Tune Shera Waliye)

तुम बिन मोरी कौन खबर ले गोवर्धन गिरधारी: श्री कृष्ण भजन (Tum Bin Mori Kaun Khabar Le Govardhan Girdhari)