हवन-यज्ञ प्रार्थना: पूजनीय प्रभो हमारे (Hawan Prarthana: Pujniya Prabhu Hamare)

पूजनीय प्रभो हमारे,

भाव उज्जवल कीजिये ।

छोड़ देवें छल कपट को,

मानसिक बल दीजिये ॥ १॥



वेद की बोलें ऋचाएं,

सत्य को धारण करें ।

हर्ष में हो मग्न सारे,

शोक-सागर से तरें ॥ २॥



अश्व्मेधादिक रचायें,

यज्ञ पर-उपकार को ।

धर्मं- मर्यादा चलाकर,

लाभ दें संसार को ॥ ३॥



नित्य श्रद्धा-भक्ति से,

यज्ञादि हम करते रहें ।

रोग-पीड़ित विश्व के,

संताप सब हरतें रहें ॥ ४॥



भावना मिट जाये मन से,

पाप अत्याचार की ।

कामनाएं पूर्ण होवें,

यज्ञ से नर-नारि की ॥ ५॥



लाभकारी हो हवन,

हर जीवधारी के लिए ।

वायु जल सर्वत्र हों,

शुभ गंध को धारण किये ॥ ६॥



स्वार्थ-भाव मिटे हमारा,

प्रेम-पथ विस्तार हो ।

'इदं न मम' का सार्थक,

प्रत्येक में व्यवहार हो ॥ ७॥



प्रेमरस में मग्न होकर,

वंदना हम कर रहे ।

'नाथ' करुणारूप ! करुणा,

आपकी सब पर रहे ॥ ८॥

कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी: भजन (Kab Darshan Denge Ram Param Hitkari)

आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..: भजन (Ajaa Nand Ke Dulare)

गोपी गीत - जयति तेऽधिकं जन्मना (Gopi Geet - Jayati Te Dhikam Janmana)

श्री बृहस्पतिवार व्रत कथा 2 (Shri Brihaspati Dev Ji Vrat Katha In Hindi Vol2)

तू मेरा राखा सबनी थाई: गुरुवाणी शब्द कीर्तन (Tu Mera Rakha Sabni Thai)

चक्रवर्ती राजा दिलीप की गौ-भक्ति कथा (Chakravarthi Raja Dileep Ki Gau Bhakti Katha)

हमारे हैं श्री गुरुदेव, हमें किस बात की चिंता (Hamare Hain Shri Gurudev Humen Kis Bat Ki Chinta)

नर से नारायण बन जायें... (Nar Se Narayan Ban Jayen Prabhu Aisa Gyan Hamen Dena)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 18 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 18)

ब्रजराज ब्रजबिहारी! इतनी विनय हमारी (Brajaraj Brajbihari Itni Vinay Hamari)

मुझे कौन जानता था तेरी बंदगी से पहले: भजन (Mujhe Kaun Poochhta Tha Teri Bandagi Se Pahle)

मैं ढूँढता तुझे था: प्रार्थना (Mai Dhundta Tujhe Tha: Prarthana)