हवन-यज्ञ प्रार्थना: पूजनीय प्रभो हमारे (Hawan Prarthana: Pujniya Prabhu Hamare)

पूजनीय प्रभो हमारे,

भाव उज्जवल कीजिये ।

छोड़ देवें छल कपट को,

मानसिक बल दीजिये ॥ १॥



वेद की बोलें ऋचाएं,

सत्य को धारण करें ।

हर्ष में हो मग्न सारे,

शोक-सागर से तरें ॥ २॥



अश्व्मेधादिक रचायें,

यज्ञ पर-उपकार को ।

धर्मं- मर्यादा चलाकर,

लाभ दें संसार को ॥ ३॥



नित्य श्रद्धा-भक्ति से,

यज्ञादि हम करते रहें ।

रोग-पीड़ित विश्व के,

संताप सब हरतें रहें ॥ ४॥



भावना मिट जाये मन से,

पाप अत्याचार की ।

कामनाएं पूर्ण होवें,

यज्ञ से नर-नारि की ॥ ५॥



लाभकारी हो हवन,

हर जीवधारी के लिए ।

वायु जल सर्वत्र हों,

शुभ गंध को धारण किये ॥ ६॥



स्वार्थ-भाव मिटे हमारा,

प्रेम-पथ विस्तार हो ।

'इदं न मम' का सार्थक,

प्रत्येक में व्यवहार हो ॥ ७॥



प्रेमरस में मग्न होकर,

वंदना हम कर रहे ।

'नाथ' करुणारूप ! करुणा,

आपकी सब पर रहे ॥ ८॥

कन्हैया कन्हैया पुकारा करेंगे... (Kanhaiya Kanhaiya Pukara Karenge Lataon Me Brij Ki Gujara Karenge)

हो होली खेलत आज युगल जोड़ी: होली भजन (Holi Khelat Aaj Jugal Jodi)

मेरे राम मेरे घर आएंगे, आएंगे प्रभु आएंगे: भजन (Mere Ram Mere Ghar Ayenge Ayenge Prabhu Ayenge)

संकटनाशन गणेश स्तोत्र - प्रणम्यं शिरसा देव गौरीपुत्रं विनायकम (Shri Sankat Nashan Ganesh Stotra)

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं: भजन (Achyutam Keshavam Krishna Damodaram)

सिद्ध कुञ्जिका स्तोत्रम् (Siddha Kunjika Stotram)

माता रानी के भजन (Mata Rani Ke Bhajan)

अम्बे तू है जगदम्बे काली: माँ दुर्गा, माँ काली आरती (Maa Durga Maa Kali Aarti)

भजन: चलो मम्मी-पापा चलो इक बार ले चलो! (Chalo Mummy Papa Ik Baar Le Chalo)

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी। (Maa Murade Puri Karde Main Halwa Batungi)

शिव आरती - ॐ जय शिव ओंकारा (Shiv Aarti - Om Jai Shiv Omkara)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 10 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 10)