तुम आशा विश्वास हमारे, रामा: भजन (Tum Asha Vishwas Hamare Bhajan)

नाम ना जाने, धाम ना जाने

जाने ना सेवा पूजा

जाने बस इतना अजान हम

एक बिना नहीं दूजा



तुम आशा विश्वास हमारे

तुम धरती आकाश हमारे,

तुम धरती आकाश हमारे, रामा



तात मात तुम, बंधू भ्रात हो

दिवस रात्रि, संध्या प्रभात हो

दीपक सूर्य चन्द्र तारक में, रामा

तुम ही ज्योति प्रकाश हमारे, रामा

॥ तुम आशा विश्वास हमारे...॥



साँसों में तुम आते जाते

एक तुम ही से हैं सब नाते

जीवनवन के हर पतझर में, रामा

एक तुम ही मधुमास हमारे, रामा

॥ तुम आशा विश्वास हमारे...॥



तुम ही सब में हैं तुम में सब

तुम ही भव हो, हो तुम ही रब

अश्रु हमारी आँखों में तुम, रामा

तुम होठों पर हास हमारे, रामा

॥ तुम आशा विश्वास हमारे...॥



तुम आशा विश्वास हमारे

तुम धरती आकाश हमारे,

तुम धरती आकाश हमारे, रामा

भजन: तुम से लागी लगन.. पारस प्यारा (Tumse Lagi Lagan Le Lo Apni Sharan Paras Pyara)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 16 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 16)

हमारे हैं श्री गुरुदेव, हमें किस बात की चिंता (Hamare Hain Shri Gurudev Humen Kis Bat Ki Chinta)

श्री हनुमान-बालाजी भजन (Shri Hanuman-Balaji Bhajan)

बालाजी मने राम मिलन की आस: भजन (Balaji Mane Ram Milan Ki Aas)

अयोध्या नाथ से जाकर पवनसुत हाल कह देना: भजन (Ayodhya Nath Se Jakar Pawansut Hal Kah Dena )

जानकी स्तुति - भई प्रगट कुमारी (Janaki Stuti - Bhai Pragat Kumari)

शंकर तेरी जटा से बहती है गंग धारा (Shankar Teri Jata Se Behti Hai Gang Dhara)

श्री अष्टलक्ष्मी स्तोत्रम (Ashtalakshmi Stothram)

बधाई भजन: बजे कुण्डलपर में बधाई, के नगरी में वीर जन्मे (Badhai Bhajan Baje Kundalpur Me Badayi Nagri Me Veer Janme)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 3 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 3)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 14 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 14)