जग में सुन्दर है दो नाम... (Jag Main Sundar Hain Do Naam)

जग में सुन्दर हैं दो नाम, चाहे कृष्ण कहो या राम।

बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम श्याम॥



माखन ब्रज में एक चुरावे, एक बेर भिलनी के खावे।

प्रेम भाव से भरे अनोखे, दोनों के हैं काम॥



एक ह्रदय में प्रेम बढ़ावे, एक ताप संताप मिटावे।

दोनों सुख के सागर हैं, और दोनों पूरण काम॥



एक कंस पापी को मारे, एक दुष्ट रावण संहारे।

दोनों दीन के दुःख हरत हैं, दोनों बल के धाम॥



एक राधिका के संग राजे, एक जानकी संग बिराजे।

चाहे सीता-राम कहो, या बोलो राधे-श्याम॥

जन्माष्टमी भजन: यशोमती मैया से बोले नंदलाला (Yashomati Maiyya Se Bole Nandlala)

नर से नारायण बन जायें... (Nar Se Narayan Ban Jayen Prabhu Aisa Gyan Hamen Dena)

सावन भजन: आई बागों में बहार, झूला झूले राधा प्यारी (Aai Bhagon Me Bahar Jhula Jhule Radha Rani)

भजन: कृपालु भगवन् कृपा हो करते (Krapalu Bhagwan Kriya Ho Karte)

ऐ मुरली वाले मेरे कन्हैया, बिना तुम्हारे.. (Ae Murliwale Mere Kanhaiya, Bina Tumhare Tadap Rahe Hain)

भवान्यष्टकम्न - तातो न माता (Bhavani Ashtakam)

गुरुदेव आरती - श्री नंगली निवासी सतगुरु (Guru Aarti - Shri Nangli Niwasi Satguru)

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल - भजन (Mukund Madhav Govind Bol Bhajan)

भजन: भारत के लिए भगवन का एक वरदान है गंगा! (Bharat Ke Liye Bhagwan Ka Ek Vardan Hai Maa Ganga)

अजा एकादशी व्रत कथा! (Aja Ekadashi Vrat Katha)

कन्हैया कन्हैया पुकारा करेंगे... (Kanhaiya Kanhaiya Pukara Karenge Lataon Me Brij Ki Gujara Karenge)

तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये: भजन (Tune Mujhe Bulaya Sherawaliye Bhajan)