जग में सुन्दर है दो नाम... (Jag Main Sundar Hain Do Naam)

जग में सुन्दर हैं दो नाम, चाहे कृष्ण कहो या राम।

बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम श्याम॥



माखन ब्रज में एक चुरावे, एक बेर भिलनी के खावे।

प्रेम भाव से भरे अनोखे, दोनों के हैं काम॥



एक ह्रदय में प्रेम बढ़ावे, एक ताप संताप मिटावे।

दोनों सुख के सागर हैं, और दोनों पूरण काम॥



एक कंस पापी को मारे, एक दुष्ट रावण संहारे।

दोनों दीन के दुःख हरत हैं, दोनों बल के धाम॥



एक राधिका के संग राजे, एक जानकी संग बिराजे।

चाहे सीता-राम कहो, या बोलो राधे-श्याम॥

जिस दिल में आपकी याद रहे: भजन (Jis Dil Main Aapki Yaad Rahe)

जय राधे, जय कृष्ण, जय वृंदावन: भजन (Jaya Radhe Jaya Krishna Jaya Vrindavan)

मेरो छोटो सो लड्डू गोपाल सखी री बड़ो प्यारो है (Mero Choto So Laddu Gopal Sakhi Ri Bado Pyaro Hai)

विधाता तू हमारा है: प्रार्थना (Vidhata Tu Hamara Hai: Prarthana)

जयति जयति जग-निवास, शंकर सुखकारी (Jayati Jayati Jag Niwas Shankar Sukhkari)

श्री बृहस्पति देव की आरती (Shri Brihaspati Dev Ji Ki Aarti)

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की (Kunj Bihari Shri Girdhar Krishna Murari)

श्री गणेशपञ्चरत्नम् - मुदाकरात्तमोदकं (Shri Ganesha Pancharatnam - Mudakaratta Modakam)

आज तो गुरुवार है, सदगुरुजी का वार है (Aaj To Guruwar hai, Sadguru Ka War Hai)

भजन: लाड़ली अद्भुत नजारा, तेरे बरसाने में है (Ladli Adbhut Nazara, Tere Barsane Me Hai)

जबसे बरसाने में आई, मैं बड़ी मस्ती में हूँ! (Jab Se Barsane Me Aayi Main Badi Masti Me Hun)

भजन: हे भोले शंकर पधारो (Hey Bhole Shankar Padharo)