कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी: भजन (Kab Darshan Denge Ram Param Hitkari)

भीलनी परम तपश्विनी,

शबरी जाको नाम ।

गुरु मतंग कह कर गए,

तोहे मिलेंगे राम ।



कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी

कब दर्शन देंगे राम दीन हितकारी

रास्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी ॥



कही कोई कांटा प्रभु को नहीं चुभ जाये

पग तन्मग्चारे चुन चुन पुष्प बिछाए

मीठे फल चख कर नित्य सजाये थारी

रास्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी



कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी

कब दर्शन देंगे राम दीन हितकारी

रास्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी ॥



श्री राम चरण मे प्राण बसे शबरी के

प्रभु दर्शन दे तो भाग जगे शबरी के

रघुनाथ प्राणनिधि पर जीवन बलिहारी

रास्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी



कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी

कब दर्शन देंगे राम दीन हितकारी

रास्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी ॥



कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी

कब दर्शन देंगे राम दीन हितकारी

रास्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी

पवमान मंत्र: ॐ असतो मा सद्गमय। (Pavman Mantra: Om Asato Maa Sadgamaya)

भजन: मेरो मॅन लग्यॉ बरसाने मे (Mero Man Lagyo Barsane Mei Jaha Viraje Radharani)

सकट चौथ पौराणिक व्रत कथा - श्री महादेवजी पार्वती (Sakat Chauth Pauranik Vrat Katha - Shri Mahadev Parvati)

राम भजा सो जीता जग में - भजन (Ram Bhaja So Jeeta Jag Me)

गंगा के खड़े किनारे, भगवान् मांग रहे नैया: भजन (Ganga Ke Khade Kinare Bhagwan Mang Rahe Naiya)

श्री सत्यनारायण कथा - तृतीय अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Tritiya Adhyay)

भजन: शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ (Shiv Shankar Ko Jisne Pooja)

जय सन्तोषी माता: आरती (Jai Santoshi Mata Aarti)

मन फूला फूला फिरे जगत में: भजन (Mann Fula Fula Phire Jagat Mein)

बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ: भजन (Beta Bulaye Jhat Daudi Chali Aaye Maa)

कनकधारा स्तोत्रम्: अङ्गं हरेः पुलकभूषणमाश्रयन्ती (Kanakadhara Stotram: Angam Hareh Pulaka Bhusanam Aashrayanti)

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी: भजन (Ik Din Vo Bhole Bhandari Banke Braj Ki Nari)