कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी: भजन (Kab Darshan Denge Ram Param Hitkari)

भीलनी परम तपश्विनी,

शबरी जाको नाम ।

गुरु मतंग कह कर गए,

तोहे मिलेंगे राम ।



कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी

कब दर्शन देंगे राम दीन हितकारी

रास्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी ॥



कही कोई कांटा प्रभु को नहीं चुभ जाये

पग तन्मग्चारे चुन चुन पुष्प बिछाए

मीठे फल चख कर नित्य सजाये थारी

रास्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी



कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी

कब दर्शन देंगे राम दीन हितकारी

रास्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी ॥



श्री राम चरण मे प्राण बसे शबरी के

प्रभु दर्शन दे तो भाग जगे शबरी के

रघुनाथ प्राणनिधि पर जीवन बलिहारी

रास्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी



कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी

कब दर्शन देंगे राम दीन हितकारी

रास्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी ॥



कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी

कब दर्शन देंगे राम दीन हितकारी

रास्ता देखत शबरी की उम्र गयी सारी

जानकी स्तुति - भइ प्रगट किशोरी (Janaki Stuti - Bhai Pragat Kishori)

प्रभु को अगर भूलोगे बन्दे, बाद बहुत पछताओगे (Prabhu Ko Agar Bhuloge Bande Need Kahan Se Laoge)

राम सीता और लखन वन जा रहे! (Ram Sita Aur Lakhan Van Ja Rahe)

दर्द किसको दिखाऊं कन्हैया: भजन (Dard Kisako Dikhaun Kanaiya)

प्रभु मेरे मन को बना दे शिवाला! (Prabhu Mere Mann Ko Banado Shivalay)

भजन: कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार! (Bhajan: Kumar Maine Dekhe, Sundar Sakhi Do Kumar)

अरे द्वारपालों कहना से कह दो: भजन (Are Dwarpalo Kanhaiya Se Keh Do)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 6 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 6)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 16 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 16)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 3 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 3)

पार्श्व एकादशी व्रत कथा! (Parshva Ekadashi Vrat Katha)

गोपी गीत - जयति तेऽधिकं जन्मना (Gopi Geet - Jayati Te Dhikam Janmana)