मन की मुरादें, पूरी कर माँ: भजन (Mann Mi Muraden Poori Kar Maa)

मन की मुरादें, पूरी कर माँ,

दर्शन करने को मैं तो आउंगी ।

तेरा दीदार होगा, मेरा उद्धार होगा,

हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।




तू है दाती दान देदे,


मुझ को अपना जान कर ।


भर दे मेरी झोली खाली,


दाग लगे ना तेरी शान पर ।


सवा रुपया और नारीयल,


मैं तेरी भेंट चढ़ाउंगी ॥



मन की मुरादें, पूरी कर माँ,

दर्शन करने को मैं तो आउंगी ।

तेरा दीदार होगा, मेरा उद्धार होगा,

हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।




छोटी छोटी कन्याओं को,


भोग लगाऊं भक्ति भाव से ।


तेरा जगराता कराऊं,


मैं तो बड़े चाव से ।


लाल द्वजा लेकर के माता,


तेरे भवन पे लहराउंगी ॥



मन की मुरादें, पूरी कर माँ,

दर्शन करने को मैं तो आउंगी ।

तेरा दीदार होगा, मेरा उद्धार होगा,

हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।




महिमा तेरी बड़ी निराली,


पार न कोई पाया है ।


मैंने सुना है, ब्रह्मा, विष्णु शिव ने,


तेरा गुण गाया है ।


मेरी औकात क्या है,


तेरी माँ बात क्या है,


कैसे तुझ को भुलाउंगी ॥



मन की मुरादें, पूरी कर माँ,

दर्शन करने को मैं तो आउंगी ।

तेरा दीदार होगा, मेरा उद्धार होगा,

हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।




लाल चोला लाल चुनरी,


लाल तेरे लाल हैं ।


तेरी जिस पर हो दया माँ,


वो तो मालामाल है ।


श्यामसुंदर और लक्खा बालक हैं तेरे,


उनको भी संग मैं लाउंगी ॥



मन की मुरादें, पूरी कर माँ,

दर्शन करने को मैं तो आउंगी ।

तेरा दीदार होगा, मेरा उद्धार होगा,

हलवे का भोग मैं लगाउंगी ।

श्री बालाजी आरती, ॐ जय हनुमत वीरा (Shri Balaji Ki Aarti, Om Jai Hanumat Veera)

श्री सत्यनारायण कथा - तृतीय अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Tritiya Adhyay)

किसलिए आस छोड़े कभी ना कभी: भजन (Kisliye Aas Chhauden Kabhi Na Kabhi)

काक चेष्टा, बको ध्यानं: आदर्श विद्यार्थी के पांच लक्षण (Kaak Cheshta Vidyarthee Ke Panch Gun)

मन लेके आया, माता रानी के भवन में: भजन (Bhajan: Man Leke Aaya Mata Rani Ke Bhawan Me)

कुछ नहीं बिगड़ेगा तेरा, हरी शरण आने के बाद (Kuch Nahi Bigadega Tera Hari Sharan Aane Ke Baad)

भगवान श्री कुबेर जी आरती (Bhagwan Shri Kuber Ji Aarti)

सकट चौथ व्रत कथा: एक साहूकार और साहूकारनी (Sakat Chauth Pauranik Vrat Katha - Ek Sahukar Aur Ek Sahukarni)

वो कौन है जिसने हम को दी पहचान है (Wo Kon Hai Jisne Humko Di Pahachan Hai)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 4 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 4)

प्रेरक कथा: श्री कृष्ण मोर से, तेरा पंख सदैव मेरे शीश पर होगा! (Prerak Katha Shri Krishn Mor Se Tera Aankh Sadaiv Mere Shish)

जानकी नाथ सहाय करें.. (Janaki Nath Sahay Kare)