भजन: मैं तो संग जाऊं बनवास, स्वामी.. (Bhajan: Main Too Sang Jaun Banwas)

मैं तो संग जाऊं बनवास

मैं तो संग जाऊं बनवास

मैं तो संग जाऊं बनवास

स्वामी ना करना निराश

पग पग संग जाऊं जाऊं बनवास

हे मैं तो संग जाऊं बनवास



उपर है अग्नि की छतरी नीचे तपती बाली

उपर है अग्नि की छतरी नीचे तपती बाली

पाँव में पड़ेंगें छाले ना जाओ बनवास

हे मैं तो संग जाऊं बनवास

मैं तो संग जाऊं बनवास



तुम हो सूर्यवंशी स्वामी रखो अपनी छाया

तुम हो सूर्यवंशी स्वामी रखो अपनी छाया

छाव में चलूँ तुम्हारी तुम ही मेरी माया

मैं तो संग जाऊं बनवास

मैं तो संग जाऊं बनवास



जंगल बन मे घूमे हाथी भालू शेर और हिरना

जंगल बन मे घूमे हाथी भालू शेर और हिरना

नारी हो तुम डर जाओगी

ना जाओ बनवास

हे मैं तो संग जाऊं बनवास

मैं तो संग जाऊं बनवास



तुम तो योद्धावीर हो स्वामी तुम ही रक्षा करना

तुम तो योद्धावीर हो स्वामी तुम ही रक्षा करना

बाण तुम्हारे काँधे सोहे संग हो तो क्या डरना

मैं तो संग जाऊं बनवास

स्वामी ना करना निराश

पग पग संग जाऊं जाऊं बनवास

हे मैं तो संग जाऊं बनवास

मैं तो संग जाऊं बनवास

मैं तो संग जाऊं बनवास



- भूपेन हजारिका

भजन: बाबा ये नैया कैसे डगमग डोली जाये (Baba Ye Naiya Kaise Dagmag Doli Jaye)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 16 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 16)

आजा.. नंद के दुलारे हो..हो..: भजन (Ajaa Nand Ke Dulare)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 11 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 11)

यशोमती नन्दन बृजबर नागर: भजन (Yashomati Nandan Brijwar Nagar)

श्री चिंतपूर्णी देवी की आरती (Mata Shri Chintpurni Devi)

वो कौन है जिसने हम को दी पहचान है (Wo Kon Hai Jisne Humko Di Pahachan Hai)

नगरी हो अयोध्या सी, रघुकुल सा घराना हो (Nagri Ho Ayodhya Si, Raghukul Sa Gharana Ho)

भजन: लाड़ली अद्भुत नजारा, तेरे बरसाने में है (Ladli Adbhut Nazara, Tere Barsane Me Hai)

कनकधारा स्तोत्रम्: अङ्गं हरेः पुलकभूषणमाश्रयन्ती (Kanakadhara Stotram: Angam Hareh Pulaka Bhusanam Aashrayanti)

श्री सिद्धिविनायक आरती: जय देव जय देव (Shri Siddhivinayak Aarti: Jai Dev Jai Dev)

भजन: जो खेल गये प्राणो पे, श्री राम के लिए! (Jo Khel Gaye Parano Pe Bhajan)