मै हूँ बेटी तू है माता: भजन (Main Hoon Beti Tu Hai Mata)

नवदुर्गा, दुर्गा पूजा, नवरात्रि, नवरात्रे, नवरात्रि, माता की चौकी, देवी जागरण, जगराता, शुक्रवार दुर्गा तथा अष्टमी के शुभ अवसर पर गाये जाने वाला प्रसिद्ध व लोकप्रिय भजन। यह भजन प्रारंभिक दौर मे गायिका
अनुराधा पौडवाल
द्वारा गाया गया है।



मै हूँ बेटी तू है माता,

ये है जनम-जनम का नाता ।

मै हूँ बेटी तू है माता,

ये है जनम-जनम का नाता ।



माता रानियें तुझे मैं बुलाने आई हूँ,

मैं बातें कुछ सुनने सुनाने आई हूँ ।



मै हूँ बेटी तू है माता,

ये है जनम-जनम का नाता ।



बच्चो से माँ रोज़ रोज़ रूठा न करो,

मेरे विश्वास को माँ झूठा न करो ।



छोडो गुस्से गीले सब,

माँ लगा लो गले अब ।



तेरी ममता की डोर को हिलाने आई हूँ,

मैं बातें कुछ सुनने सुनाने आई हूँ ।



मै हूँ बेटी तू है माता,

ये है जनम-जनम का नाता ।



आस्था का और न इम्तिहान लो,

निर्दोष विनय मेरी अब मान लो ।



पूरी कर भी दो आस,

माँ बिठा लो अपने पास ।



सच्ची श्रद्धा का भोग मैं लगाने आई हूँ,

मैं बातें कुछ सुनने सुनाने आई हूँ ।



मै हूँ बेटी तू है माता,

ये है जनम-जनम का नाता ।







मूर्ति में होती न अगर आत्मा,

धरना भक्त कैसे पता परमात्मा ।



नहीं मूक तू पाशा तेरी पिंडी में है प्राण,

सारी दुनिया को ये दिखलाने आई हूँ ।

मैं बातें कुछ सुनने सुनाने आई हूँ ।



मै हूँ बेटी तू है माता,

ये है जनम-जनम का नाता ।



अम्बे रानियें मैं तुझको बुलाने आई हूँ

मैं बातें कुछ सुनने सुनाने आई हूँ ।

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 21 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 21)

गुरु बिन घोर अँधेरा संतो: भजन (Guru Bina Ghor Andhera Re Santo)

कृष्ण जिनका नाम है: भजन (Krishna Jinka Naam Hai Gokul Jinka Dham Hai Bhajan)

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन (Sankat Ke Sathi Ko Hanuman Kahate Hain)

भजन: बेटा जो बुलाए माँ को आना चाहिए (Beta Jo Bulaye Maa Ko Aana Chahiye)

बाहुबली से शिव तांडव स्तोत्रम, कौन-है वो (Shiv Tandav Stotram And Kon Hai Woh From Bahubali)

भजन: कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार! (Bhajan: Kumar Maine Dekhe, Sundar Sakhi Do Kumar)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 12 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 12)

प्रभु मेरे मन को बना दे शिवाला! (Prabhu Mere Mann Ko Banado Shivalay)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 11 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 11)

भजन: तेरा किसने किया श्रृंगार सांवरे (Tera Kisne Kiya Shringar Sanware)

भजन: कभी धूप कभी छाँव (Kabhi Dhoop Kabhi Chhaon)