भजन: कृपालु भगवन् कृपा हो करते (Krapalu Bhagwan Kriya Ho Karte)

कृपालु भगवन् कृपा हो करते,

इसी कृपा से नर तन मिला है ।

दयालु भगवन् दया हो करते,

इसी दया से ये मन मिला है ॥



अजर, अमर तुम हो सृष्टिकर्ता,

अनुपम, अनादि हो जग के भर्ता ।

अभय, अजन्मा हो जग के स्वामी,

आकार तेरा नहीं मिला है ॥



ब्रह्माण्ड रचते हो तुम स्वयं ही,

न शक्तिमत्ता तुम जैसी कोई ।

कण-कण के योजक हे जगनियन्ता!

इच्छा से तेरी हर कण हिला है ॥



है कैसी अद्भुत कारीगरी ये,

जो कोई देखे होता अचम्भित ।

न हाथ सुई लेकर के धागा,

मानुष का चोला कैसे सिला है ॥



हो करते कतरन तुम न्यारी-न्यारी,

विविध रंगों से भरी फुलवारी ।

सौरभ सुमन की मैं जाऊँ वारी,

चमन का हर गुल सुन्दर खिला है ॥



विविध खनिज से भरी है वसुधा,

क्या स्वर्ण, चान्दी क्या ताम्र, लौहा ।

है प्राणवायु कैसी देती जो जीवन,

भण्डार जन-धन सबको मिला है ॥



हैं कैसे जलचर रहते ही जल में,

अन्दर ही कैसे हैं श्वास लेते ।

हैं कुछ उभयचर प्राणी जगत् में,

टू इन ये वन में मुझको मिला है ॥



है न्यायकारिन्! हो न्याय करते,

किया हो जैसा वैसा हो भरते ।

ना तोलते कम और ना जियादा,

चलता निरन्तर ये सिलसिला है ॥



न तुम हो खाते बस हो खिलाते,

न तुम हो पीते बस हो पिलाते ।

भर-भर के आनन्द का रस पिलाया,

आनन्द से मन कमल खिला है ॥



पग पाप पथ पर कभी बढे़ ना,

पुण्यों की सरणि पर नित बढूँ मैं ।

`नन्दकिशोर` बढ़ो अभय मन,

मुश्किल से मानव का तन मिला है ॥



- नन्दकिशोर आर्य

जन्माष्टमी भजन: यशोमती मैया से बोले नंदलाला (Yashomati Maiyya Se Bole Nandlala)

मेरे राम मेरे घर आएंगे, आएंगे प्रभु आएंगे: भजन (Mere Ram Mere Ghar Ayenge Ayenge Prabhu Ayenge)

श्री अष्टलक्ष्मी स्तोत्रम (Ashtalakshmi Stothram)

राधा को नाम अनमोल बोलो राधे राधे। (Radha Ko Naam Anmol Bolo Radhe Radhe)

नाकोड़ा के भैरव तुमको आना होगा: भजन (Nakoda Ke Bhairav Tumko Aana Hoga)

आरती युगलकिशोर की कीजै! (Aarti Shri Yugal Kishoreki Keejai)

चक्रवर्ती राजा दिलीप की गौ-भक्ति कथा (Chakravarthi Raja Dileep Ki Gau Bhakti Katha)

भजन: बांटो बांटो मिठाई मनाओ ख़ुशी (Banto Banto Mithai Manao Khushi)

करो हरी का भजन प्यारे, उमरिया बीती जाती हे (Karo Hari Ka Bhajan Pyare, Umariya Beeti Jati Hai)

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं। (Hum Ram Ji Ke Ram Ji Hamare Hain)

प्रभु रामचंद्र के दूता: भजन (Prabhu Ramachandra Ke Dootha)

सर को झुकालो, शेरावाली को मानलो - भजन (Sar Ko Jhukalo Sherawali Ko Manalo)