ॐ जय कलाधारी हरे - बाबा बालक नाथ आरती (Shri Baba Balaknath Aarti)

ॐ जय कलाधारी हरे,

स्वामी जय पौणाहारी हरे,

भक्त जनों की नैया,

दस जनों की नैया,

भव से पार करे,

ॐ जय कलाधारी हरे ॥



बालक उमर सुहानी,

नाम बालक नाथा,

अमर हुए शंकर से,

सुन के अमर गाथा ।

ॐ जय कलाधारी हरे ॥



शीश पे बाल सुनैहरी,

गले रुद्राक्षी माला,

हाथ में झोली चिमटा,

आसन मृगशाला ।

ॐ जय कलाधारी हरे ॥



सुंदर सेली सिंगी,

वैरागन सोहे,

गऊ पालक रखवालक,

भगतन मन मोहे ।

ॐ जय कलाधारी हरे ॥



अंग भभूत रमाई,

मूर्ति प्रभु रंगी,

भय भज्जन दुःख नाशक,

भरथरी के संगी ।

ॐ जय कलाधारी हरे ॥



रोट चढ़त रविवार को,

फल, फूल मिश्री मेवा,

धुप दीप कुदनुं से,

आनंद सिद्ध देवा ।

ॐ जय कलाधारी हरे ॥



भक्तन हित अवतार लियो,

प्रभु देख के कल्लू काला,

दुष्ट दमन शत्रुहन,

सबके प्रतिपाला ।

ॐ जय कलाधारी हरे ॥



श्री बालक नाथ जी की आरती,

जो कोई नित गावे,

कहते है सेवक तेरे,

मन वाच्छित फल पावे ।

ॐ जय कलाधारी हरे ॥



ॐ जय कलाधारी हरे,

स्वामी जय पौणाहारी हरे,

भक्त जनों की नैया,

भव से पार करे,

ॐ जय कलाधारी हरे ॥

कब दर्शन देंगे राम परम हितकारी: भजन (Kab Darshan Denge Ram Param Hitkari)

भजन: मैं तो संग जाऊं बनवास, स्वामी.. (Bhajan: Main Too Sang Jaun Banwas)

म्हारा खाटू वाला श्याम: भजन (Mhara Khatu Wala Shyam, Mhara Neele Shyam)

अभयदान दीजै दयालु प्रभु (Abhaydan Deejai Dayalu Prabhu Shiv Aarti)

भजन: लाड़ली अद्भुत नजारा, तेरे बरसाने में है (Ladli Adbhut Nazara, Tere Barsane Me Hai)

जो भजे हरि को सदा: भजन (Jo Bhaje Hari Ko Sada So Hi Param Pada Pavega)

मुरली बजा के मोहना! (Murli Bajake Mohana Kyon Karliya Kinara)

प्रभु को अगर भूलोगे बन्दे, बाद बहुत पछताओगे (Prabhu Ko Agar Bhuloge Bande Need Kahan Se Laoge)

दुनियाँ रचने वाले को भगवान कहते हैं! (Duniya Rachne Wale Ko Bhagwan Kehte Hain)

बाहुबली से शिव तांडव स्तोत्रम, कौन-है वो (Shiv Tandav Stotram And Kon Hai Woh From Bahubali)

जयति जयति जग-निवास, शंकर सुखकारी (Jayati Jayati Jag Niwas Shankar Sukhkari)

मैं तो ओढली चुनरियाँ थारे नाम री: भजन (Main Too Ohdli Chunariyan Thare Naam Ri)