क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी: भजन (Kshama Karo Tum Mere Prabhuji)

क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी,

अब तक के सारे अपराध



धो डालो तन की चादर को,

लगे है उसमे जो भी दाग

॥ क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी...॥



तुम तो प्रभुजी मानसरोवर,

अमृत जल से भरे हुए



पारस तुम हो, इक लोहा मै,

कंचन होवे जो ही छुवे



तज के जग की सारी माया,

तुमसे कर लू मै अनुराग



धो डालो तन की चादर को,

लगे है उसमे जो भी दाग

॥ क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी...॥



काम क्रोध में फंसा रहा मन,

सच्ची डगर नहीं जानी



लोभ मोह मद में रहकर प्रभु,

कर डाली मनमानी



मनमानी में दिशा गलत लें,

पंहुचा वहां जहाँ है आग



धो डालो तन की चादर को,

लगे है उसमे जो भी दाग

॥ क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी...॥



इस सुन्दर तन की रचना कर,

तुमने जो उपकार किया



हमने उस सुन्दर तन पर प्रभु,

अपराधो का भार दिया



नारायण अब शरण तुम्हारे,

तुमसे प्रीत होये निज राग



क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी,

अब तक के सारे अपराध



धो डालो तन की चादर को,

लगे है उसमे जो भी दाग

॥ क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी...॥

श्री राधा: आरती श्री वृषभानुसुता की (Shri Radha Ji: Aarti Shri Vrashbhanusuta Ki)

प्रेरक कथा: श्री कृष्ण मोर से, तेरा पंख सदैव मेरे शीश पर होगा! (Prerak Katha Shri Krishn Mor Se Tera Aankh Sadaiv Mere Shish)

श्री कृष्णाष्टकम् - आदि शंकराचार्य (Krishnashtakam By Adi Shankaracharya)

दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी: भजन (De Do Anguthi Mere Prano Se Pyari)

जो विधि कर्म में लिखे विधाता: भजन (Jo Vidhi Karam Me Likha Vidhata)

मेरे सरकार का, दीदार बड़ा प्यारा है: भजन (Mere Sarkar Ka Didar Bada Pyara Hai)

चक्रवर्ती राजा दिलीप की गौ-भक्ति कथा (Chakravarthi Raja Dileep Ki Gau Bhakti Katha)

करवा चौथ व्रत कथा: साहूकार के सात लड़के, एक लड़की की कहानी (Karwa Chauth Vrat Katha)

सकट चौथ व्रत कथा: एक साहूकार और साहूकारनी (Sakat Chauth Pauranik Vrat Katha - Ek Sahukar Aur Ek Sahukarni)

अहोई अष्टमी व्रत कथा (Ahoi Ashtami Vrat Katha)

जय जय जननी श्री गणेश की: भजन (Jai Jai Janani Shri Ganesh ki)

रामजी भजन: मंदिर बनेगा धीरे धीरे (Ramji Ka Mandir Banega Dheere Dheere)