क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी: भजन (Kshama Karo Tum Mere Prabhuji)

क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी,

अब तक के सारे अपराध



धो डालो तन की चादर को,

लगे है उसमे जो भी दाग

॥ क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी...॥



तुम तो प्रभुजी मानसरोवर,

अमृत जल से भरे हुए



पारस तुम हो, इक लोहा मै,

कंचन होवे जो ही छुवे



तज के जग की सारी माया,

तुमसे कर लू मै अनुराग



धो डालो तन की चादर को,

लगे है उसमे जो भी दाग

॥ क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी...॥



काम क्रोध में फंसा रहा मन,

सच्ची डगर नहीं जानी



लोभ मोह मद में रहकर प्रभु,

कर डाली मनमानी



मनमानी में दिशा गलत लें,

पंहुचा वहां जहाँ है आग



धो डालो तन की चादर को,

लगे है उसमे जो भी दाग

॥ क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी...॥



इस सुन्दर तन की रचना कर,

तुमने जो उपकार किया



हमने उस सुन्दर तन पर प्रभु,

अपराधो का भार दिया



नारायण अब शरण तुम्हारे,

तुमसे प्रीत होये निज राग



क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी,

अब तक के सारे अपराध



धो डालो तन की चादर को,

लगे है उसमे जो भी दाग

॥ क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी...॥

धर्मराज आरती - ॐ जय धर्म धुरन्धर (Dharmraj Ki Aarti - Om Jai Dharm Dhurandar)

श्रीहनुमत् पञ्चरत्नम् (Shri Hanumat Pancharatnam)

जानकी स्तुति - भइ प्रगट किशोरी (Janaki Stuti - Bhai Pragat Kishori)

भजन: सांवरे को दिल में बसा के तो देखो! (Bhajan: Sanware Ko Dil Me Basa Kar To Dekho)

प्रेरक कथा: श्री कृष्ण मोर से, तेरा पंख सदैव मेरे शीश पर होगा! (Prerak Katha Shri Krishn Mor Se Tera Aankh Sadaiv Mere Shish)

हे मुरलीधर छलिया मोहन: भजन (Hey Muralidhar Chhaliya Mohan)

माँ अन्नपूर्णा की आरती (Maa Annapurna Ji Ki Aarti)

सोमवती अमावस्या व्रत कथा (Somvati Amavasya Vrat Katha)

मुझे चरणों से लगाले, मेरे श्याम मुरली वाले: भजन (Mujhe Charno Se Lagale Mere Shyam Murli Wale)

भजन: जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे (Jo Karte Rahoge Bhajan Dhire Dhire)

गणगौर व्रत कथा (Gangaur Vrat Katha)

नमस्कार भगवन तुम्हें भक्तों का बारम्बार हो: भजन (Namaskar Bhagwan Tumhe Bhakton Ka Barambar Ho)