भजन: कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं! (Bhajan: Kalyug Mein Sidh Ho Dev Tumhin Hanuman)

कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं,

हनुमान तुम्हारा क्या कहना ।

तेरी शक्ति का क्या कहना,

तेरी भक्ति का क्या कहना ॥



सीता की खोज करी तुमने,

तुम सात समुन्दर पार गये ।

लंका को किया शमशान प्रभु,

बलवान तुम्हारा क्या कहना ॥

तेरी शक्ति का क्या कहना,

तेरी भक्ति का क्या कहना ।

॥ कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं...॥



जब लखन लाल को शक्ति लगी,

तुम द्रोणागिरी पर्वत लाये ।

लक्ष्मण के बचाये आ कर के,

तब प्राण तुम्हारा क्या कहना ॥

तेरी शक्ति का क्या कहना,

तेरी भक्ति का क्या कहना ।

॥ कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं...॥



तुम भक्त शिरोमनी हो जग में,

तुम वीर शिरोमनी हो जग में ।

तेरे रोम रोम में बसते हैं सिया राम,

तुम्हारा क्या कहना ॥



कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं,

हनुमान तुम्हारा क्या कहना ।

तेरी शक्ति का क्या कहना,

तेरी भक्ति का क्या कहना ॥

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी: आरती (Jai Ambe Gauri Maiya Jai Shyama Gauri)

भरी उनकी आँखों में है, कितनी करुणा: भजन (Bhajan: Bhari Unki Ankho Mein Hai Kitni Karuna)

श्री राधे गोविंदा, मन भज ले हरी का प्यारा नाम है। (Shri Radhe Govinda Man Bhaj Le Hari Ka Pyara Naam Hai)

जरी की पगड़ी बांधे, सुंदर आँखों वाला: भजन (Jari Ki Pagri Bandhe Sundar Ankhon Wala)

नाम रामायणम (Nama Ramayanam)

मुरली वाले ने घेर लयी, अकेली पनिया गयी: भजन (Murli Wale Ne Gher Layi)

श्री जग्गनाथ आरती - चतुर्भुज जगन्नाथ (Shri Jagganath Aarti - Chaturbhuja Jagannatha)

आरती: श्री पार्वती माँ (Shri Parvati Maa)

रामजी भजन: मंदिर बनेगा धीरे धीरे (Ramji Ka Mandir Banega Dheere Dheere)

सियारानी का अचल सुहाग रहे - भजन (Bhajan: Siyarani Ka Achal Suhag Rahe)

मैं तो अपने मोहन की प्यारी: भजन (Me Too Apne Mohan Ki Pyari, Sajan Mero Girdhari)

भजन: मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है। (Mujhe Tune Malik Bahut Kuch Diya Hai)