भजन: कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं! (Bhajan: Kalyug Mein Sidh Ho Dev Tumhin Hanuman)

कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं,

हनुमान तुम्हारा क्या कहना ।

तेरी शक्ति का क्या कहना,

तेरी भक्ति का क्या कहना ॥



सीता की खोज करी तुमने,

तुम सात समुन्दर पार गये ।

लंका को किया शमशान प्रभु,

बलवान तुम्हारा क्या कहना ॥

तेरी शक्ति का क्या कहना,

तेरी भक्ति का क्या कहना ।

॥ कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं...॥



जब लखन लाल को शक्ति लगी,

तुम द्रोणागिरी पर्वत लाये ।

लक्ष्मण के बचाये आ कर के,

तब प्राण तुम्हारा क्या कहना ॥

तेरी शक्ति का क्या कहना,

तेरी भक्ति का क्या कहना ।

॥ कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं...॥



तुम भक्त शिरोमनी हो जग में,

तुम वीर शिरोमनी हो जग में ।

तेरे रोम रोम में बसते हैं सिया राम,

तुम्हारा क्या कहना ॥



कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं,

हनुमान तुम्हारा क्या कहना ।

तेरी शक्ति का क्या कहना,

तेरी भक्ति का क्या कहना ॥

देवोत्थान / प्रबोधिनी एकादशी व्रत कथा 2 (Devutthana Ekadashi Vrat Katha 2)

भजन: कभी भूलू ना.. मेरे राधा रमण (Kabhi Bhoolun Na Radha Raman Mere)

सच्चा है माँ का दरबार, मैय्या का जवाब नहीं: भजन (Saccha Hai Maa Ka Darbar, Maiya Ka Jawab Nahi)

श्री जानकीनाथ जी की आरती (Shri Jankinatha Ji Ki Aarti)

मैं बालक तू माता शेरां वालिए! (Main Balak Tu Mata Sherawaliye)

सीता राम, सीता राम, सीताराम कहिये: भजन (Sita Ram Sita Ram Sita Ram Kahiye)

श्री नारायण कवच (Shri Narayan Kavach)

तू मेरा राखा सबनी थाई: गुरुवाणी शब्द कीर्तन (Tu Mera Rakha Sabni Thai)

बजरंगबली मेरी नाव चली: भजन (Bajarangabali Meri Nav Chali)

जगमग जगमग जोत जली है, आरती श्री राम जी (Jagmag Jyot Jali Hai Shri Ram Aarti)

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी: भजन (Ik Din Vo Bhole Bhandari Banke Braj Ki Nari)

प्रभु हम पे कृपा करना, प्रभु हम पे दया करना: भजन (Prabhu Humpe Daya Karna)