भजन: राम का सुमिरन किया करो! (Ram Ka Sumiran Kiya Karo Prabhu Ke Sahare Jiya Kro)

राम का सुमिरन किया करो,

प्रभु के सहारे जिया करो



जो दुनिया का मालिक है,

नाम उसी का लिया करो



राम का सुमिरन किया करो,

प्रभु के सहारे जिया करो

जो दुनिया का मालिक है,

नाम उसी का लिया करो



सुर दुर्लभ मानव तन तूने,

बड़े भाग्य से पाया है



विषयों में फंसकर के बन्दे,

हीरा जनम गवाया है



दुष्ट संग ना किया करो,

सज्जनों से गुण लिया करो



जो दुनिया का मालिक है,

नाम उसी का लिया करो



राम का सुमिरन किया करो,

प्रभु के सहारे जिया करो

जो दुनिया का मालिक है,

नाम उसी का लिया करो



राम का सुमिरन किया करो,

प्रभु के सहारे जिया करो



जो दुनिया का मालिक है,

नाम उसी का लिया करो

श्री जग्गनाथ आरती - चतुर्भुज जगन्नाथ (Shri Jagganath Aarti - Chaturbhuja Jagannatha)

आरती: श्री रामचन्द्र जी (Shri Ramchandra Ji 2)

राम रस बरस्यो री, आज म्हारे आंगन में (Ram Ras Barsyo Re, Aaj Mahre Angan Main)

करवा चौथ व्रत कथा: साहूकार के सात लड़के, एक लड़की की कहानी (Karwa Chauth Vrat Katha)

यशोमती नन्दन बृजबर नागर: भजन (Yashomati Nandan Brijwar Nagar)

विन्ध्येश्वरी आरती: सुन मेरी देवी पर्वतवासनी (Sun Meri Devi Parvat Vasani)

श्री विश्वकर्मा आरती- जय श्री विश्वकर्मा प्रभु (Shri Vishwakarma Ji Ki Aarti)

श्री कृष्ण भजन (Shri Krishna Ke Bhajan)

भजन: तुम से लागी लगन.. पारस प्यारा (Tumse Lagi Lagan Le Lo Apni Sharan Paras Pyara)

श्री राधा: आरती श्री वृषभानुसुता की (Shri Radha Ji: Aarti Shri Vrashbhanusuta Ki)

राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा! (Radha Dundh Rahi Kisine Mera Shyam Dekha)

जानकी स्तुति - भइ प्रगट किशोरी (Janaki Stuti - Bhai Pragat Kishori)