जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी: भजन (Jai Radha Madhav, Jai Kunj Bihari)

जय राधा माधव,

जय कुन्ज बिहारी

जय राधा माधव,

जय कुन्ज बिहारी

जय गोपी जन बल्लभ,

जय गिरधर हरी

जय गोपी जन बल्लभ,

जय गिरधर हरी

॥ जय राधा माधव...॥



यशोदा नंदन, ब्रज जन रंजन

यशोदा नंदन, ब्रज जन रंजन

जमुना तीर बन चारि,

जय कुन्ज बिहारी

॥ जय राधा माधव...॥



मुरली मनोहर करुणा सागर

मुरली मनोहर करुणा सागर

जय गोवर्धन हरी,

जय कुन्ज बिहारी

॥ जय राधा माधव...॥



हरे कृष्णा हरे कृष्णा,

कृष्णा कृष्णा हरे हरे

हरे कृष्णा हरे कृष्णा,

कृष्णा कृष्णा हरे हरे

हरे रामा हरे रमा,

रामा रामा हरे हरे

हरे रामा हरे रमा,

रामा रामा हरे हरे



हरे कृष्णा हरे कृष्णा,

कृष्णा कृष्णा हरे हरे

हरे कृष्णा हरे कृष्णा,

कृष्णा कृष्णा हरे हरे

हरे रामा हरे रमा,

रामा रामा हरे हरे

हरे रामा हरे रमा,

रामा रामा हरे हरे

भजन: राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद (Ram Ko Dekh Ke Janak Nandini Aur Sakhi Samvad)

धन जोबन और काया नगर की: भजन (Dhan Joban Aur Kaya Nagar Ki)

भगवान राम के राजतिलक में निमंत्रण से छूटे भगवान चित्रगुप्त (Ram Ke Rajtilak Me Nimantran Se Chhute Bhagwan Chitragupt)

कीर्तन रचो है म्हारे आंगने - भजन (Kirtan Racho Hai Mhare Angane)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 24 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 24)

आज तो गुरुवार है, सदगुरुजी का वार है (Aaj To Guruwar hai, Sadguru Ka War Hai)

तू प्यार का सागर है (Tu Pyar Ka Sagar Hai)

करवा चौथ व्रत कथा: द्रौपदी को श्री कृष्ण ने सुनाई कथा! (Karwa Chauth Vrat Katha)

भजन: दिया थाली बिच जलता है.. (Diya Thali Vich Jalta Hai)

श्री जगन्नाथ संध्या आरती (Shri Jagganath Sandhya Aarti)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 2 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 2)

भजन: अमृत बेला गया आलसी सो रहा बन आभागा ! (Bhajan: Amrit Bela Geya Aalasi So Raha Ban Aabhaga)