अभयदान दीजै दयालु प्रभु (Abhaydan Deejai Dayalu Prabhu Shiv Aarti)

अभयदान दीजै दयालु प्रभु,

सकल सृष्टि के हितकारी ।

भोलेनाथ भक्त-दु:खगंजन,

भवभंजन शुभ सुखकारी ॥

दीनदयालु कृपालु कालरिपु,

अलखनिरंजन शिव योगी ।

मंगल रूप अनूप छबीले,

अखिल भुवन के तुम भोगी ॥

वाम अंग अति रंगरस-भीने,

उमा वदन की छवि न्यारी ।

भोलेनाथ भक्त-दु:खगंजन,

भवभंजन शुभ सुखकारी ॥



असुर निकंदन, सब दु:खभंजन,

वेद बखाने जग जाने ।

रुण्डमाल, गल व्याल,भाल-शशि,

नीलकण्ठ शोभा साने ॥

गंगाधर, त्रिसूलधर, विषधर,

बाघम्बर, गिरिचारी ।

भोलेनाथ भक्त-दु:खगंजन,

भवभंजन शुभ सुखकारी ॥



यह भवसागर अति अगाध है,

पार उतर कैसे बूझे ।

ग्राह मगर बहु कच्छप छाये,

मार्ग कहो कैसे सूझे ॥

नाम तुम्हारा नौका निर्मल,

तुम केवट शिव अधिकारी ।

भोलेनाथ भक्त-दु:खगंजन,

भवभंजन शुभ सुखकारी ॥



मैं जानूँ तुम सद्गुणसागर,

अवगुण मेरे सब हरियो ।

किंकर की विनती सुन स्वामी,

सब अपराध क्षमा करियो ॥

तुम तो सकल विश्व के स्वामी,

मैं हूं प्राणी संसारी ।

भोलेनाथ भक्त-दु:खगंजन,

भवभंजन शुभ सुखकारी ॥



काम, क्रोध, लोभ अति दारुण,

इनसे मेरो वश नाहीं ।

द्रोह, मोह, मद संग न छोडै,

आन देत नहिं तुम तांई ॥

क्षुधा-तृषा नित लगी रहत है,

बढी विषय तृष्णा भारी ।

भोलेनाथ भक्त-दु:खगंजन,

भवभंजन शुभ सुखकारी ॥



तुम ही शिवजी कर्ता-हर्ता,

तुम ही जग के रखवारे ।

तुम ही गगन मगन पुनि,

पृथ्वी पर्वतपुत्री प्यारे ॥

तुम ही पवन हुताशन शिवजी,

तुम ही रवि-शशि तमहारी ।

भोलेनाथ भक्त-दु:खगंजन,

भवभंजन शुभ सुखकारी ॥



पशुपति अजर, अमर, अमरेश्वर,

योगेश्वर शिव गोस्वामी ।

वृषभारूढ, गूढ गुरु गिरिपति,

गिरिजावल्लभ निष्कामी ॥

सुषमासागर रूप उजागर,

गावत हैं सब नरनारी ।

भोलेनाथ भक्त-दु:खगंजन,

भवभंजन शुभ सुखकारी ॥



महादेव देवों के अधिपति,

फणिपति-भूषण अति साजै ।

दीप्त ललाट लाल दोउ लोचन,

आनत ही दु:ख भाजै ॥

परम प्रसिद्ध, पुनीत, पुरातन,

महिमा त्रिभुवन-विस्तारी ।

भोलेनाथ भक्त-दु:खगंजन,

भवभंजन शुभ सुखकारी ॥



ब्रह्मा, विष्णु, महेश, शेष मुनि,

नारद आदि करत सेवा ।

सबकी इच्छा पूरन करते,

नाथ सनातन हर देवा ॥

भक्ति, मुक्ति के दाता शंकर,

नित्य-निरंतर सुखकारी ।

भोलेनाथ भक्त-दु:खगंजन,

भवभंजन शुभ सुखकारी ॥



महिमा इष्ट महेश्वर को जो सीखे,

सुने, नित्य गावै ।

अष्टसिद्धि-नवनिधि-सुख-सम्पत्ति,

स्वामीभक्ति मुक्ति पावै ॥

श्रीअहिभूषण प्रसन्न होकर,

कृपा कीजिये त्रिपुरारी ।

भोलेनाथ भक्त-दु:खगंजन,

भवभंजन शुभ सुखकारी ॥

भजन: मेरी विनती यही है! राधा रानी (Meri Binti Yahi Hai Radha Rani)

तू मेरा राखा सबनी थाई: गुरुवाणी शब्द कीर्तन (Tu Mera Rakha Sabni Thai)

बालाजी मने राम मिलन की आस: भजन (Balaji Mane Ram Milan Ki Aas)

दुनिया मे देव हजारो हैं बजरंग बली का क्या कहना (Duniya Me Dev Hazaro Hai Bajrangbali Ka Kya Kahna)

भजन: सांवली सूरत पे मोहन, दिल दीवाना हो गया! (Sanwali Surat Pe Mohan Dil Diwana Ho Gaya)

श्री सत्यनारायण कथा - प्रथम अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Pratham Adhyay)

भजन: तेरा किसने किया श्रृंगार सांवरे (Tera Kisne Kiya Shringar Sanware)

श्री चिंतपूर्णी देवी की आरती (Mata Shri Chintpurni Devi)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 23 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 23)

भजन: नंद रानी तेरो लाला जबर भयो रे! (Nand Rani Tero Lala Zabar Bhayo Re)

भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में! (Shri Ram Janki Baithe Hain Mere Seene Me Bhajan)

दानी बड़ा ये भोलेनाथ, पूरी करे मन की मुराद! (Dani Bada Ye Bholenath Puri Kare Man Ki Murad)