हरि का भजन करो, हरि है तुम्हारा! (Hari Ka Bhajan Karo, Hari Hai Tumhara!)

हरि का भजन करो,

हरि है तुम्हारा,

हरि के भजन बिन,

हरि के भजन बिन, नहीं गुजारा,

हरि का भजन करों,

हरि है तुम्हारा॥



हरि नाम से तेरा काम बनेगा,

हरि नाम ही तेरे साथ चलेगा,

हरि नाम लेने वाला,

हरि नाम लेने वाला, हरि का है प्यारा,

हरि का भजन करों,

हरि है तुम्हारा॥



कोई कहे राधे-श्याम,

कोई कहे सीता-राम,

कोई गिरिधर गोपाल,

कोई राधा-माधव नाम,

वो ही हरि दीन बंधू,

वो ही हरी करुणा सिन्धु,

नमो बारम्बारा,

हरि का भजन करों,

हरि है तुम्हारा॥



सुख़ दुःख भोगे जाओ,

लेखा सब मिटाते जाओ,

हरि गुण गाते जाओ,

हरि को रिझाते जाओ,

वो ही हरि दीन-बंधू,

वो ही हरी करुणा-सिन्धु,

सबका है प्यारा,

हरि का भजन करों,

हरि है तुम्हारा॥



दीनो पर दया करो,

बने तो सेवा भी करो,

मोह सब दूर करो,

प्रेम हरि से करो,

ये ही भक्ति ये ही योग,

ये ही ज्ञान सारा,

हरि का भजन करों,

हरि है तुम्हारा॥



हरि का भजन करो,

हरि है तुम्हारा,

हरि के भजन बिन,

हरि के भजन बिन, नहीं गुजारा,

हरि का भजन करों,

हरि है तुम्हारा॥

अन्नपूर्णा स्तोत्रम् - नित्यानन्दकरी वराभयकरी (Annapoorna Stotram - Nitya-nanda Karee Vara Abhaya Karee)

रोहिणी शकट भेदन, दशरथ रचित शनि स्तोत्र कथा (Rohini Shakat Bhed Dasharath Rachit Shani Stotr Katha)

गुरु भजन: दर्शन देता जाइजो जी.. (Darshan Deta Jaijo Ji Satguru Milata Jaiyo Ji)

श्यामा तेरे चरणों की, गर धूल जो मिल जाए: भजन (Shyama Tere Charno Ki, Gar Dhool Jo Mil Jaye)

कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन मनावणा (Kahna Ve Assan Tera Janmdin Manavna)

माँ अन्नपूर्णा की आरती (Maa Annapurna Ji Ki Aarti)

श्री शीतलाष्टक स्तोत्र (Shri Sheetla Ashtakam)

श्री पंच-तत्व प्रणाम मंत्र (Panch Tattva Pranam Mantra)

संकटा माता आरती (Sankata Mata Aarti)

करो हरी का भजन प्यारे, उमरिया बीती जाती हे (Karo Hari Ka Bhajan Pyare, Umariya Beeti Jati Hai)

श्री बद्रीनाथजी की आरती (Shri Badrinath Aarti)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 29 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 29)