फंसी भंवर में थी मेरी नैया - श्री श्याम भजन (Fansi Bhanwar Me Thi Meri Naiya)

फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है ।

पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत,

पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत,

वो मौज करने निकल पड़ी है ॥



फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है।



भरोसा था मुझको मेरे बाबा,

यकीन था तेरी रहमतों पे ।

था बैठा चोखट पे तेरी कब से,

था बैठा चोखट पे तेरी कब से,

निगाहें निर्धन पे अब पड़ी है ॥



फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है ।



सजाऊँ तुझको निहारूँ तुझको,

पखारूँ चरणों को मैं श्याम तेरे ।

मैं नाचूँ बनकर के मोर बाबा,

मैं नाचूँ बनकर के मोर बाबा,

ये भावनाएं मचल पड़ी है ॥



फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है ।



हँसे या कुछ भी कहे जमाना,

जो रूठे तो कोई गम नही है ।

मगर जो रूठा तू बाबा मुझसे,

मगर जो रूठा तू बाबा मुझसे,

बहेगी अश्को की ये झड़ी है ॥



फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है ।



फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है ।

पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत,

पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत,

वो मौज करने निकल पड़ी है ॥



फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है ।

भजन: अयोध्या करती है आव्हान.. (Ayodhya Karti Hai Awhan)

बनवारी रे! जीने का सहारा तेरा नाम रे: भजन (Banwari Re Jeene Ka Sahara Tera Naam Re)

पत्नीं मनोरमां देहि - सुंदर पत्नी प्राप्ति मंत्र (Patni Manoraman Dehi)

लगन तुमसे लगा बैठे, जो होगा देखा जाएगा। (Lagan Tumse Laga Baithe Jo Hoga Dekha Jayega)

गोविंद चले चरावन धेनु (Govind Chale Charaavan Dhenu)

मेरो छोटो सो लड्डू गोपाल सखी री बड़ो प्यारो है (Mero Choto So Laddu Gopal Sakhi Ri Bado Pyaro Hai)

मन मेरा मंदिर, शिव मेरी पूजा: भजन (Man Mera Mandir Shiv Meri Pooja)

भजन: मानो तो मैं गंगा माँ हूँ.. (Mano Toh Main Ganga Maa Hun)

हिम्मत ना हारिए, प्रभु ना बिसारिए: भजन (Himmat Na Hariye, Prabhu Na Bisraiye)

भजन: श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी (Bhajan: Shri Krishna Govind Hare Murari)

धन धन भोलेनाथ बॉंट दिये, तीन लोक: भजन (Dhan Dhan Bholenath Bant Diye Teen Lok)

माँ शारदे कहाँ तू, वीणा बजा रही हैं: भजन (Maa Sharde Kaha Tu Veena Baja Rahi Hain)