फंसी भंवर में थी मेरी नैया - श्री श्याम भजन (Fansi Bhanwar Me Thi Meri Naiya)

फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है ।

पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत,

पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत,

वो मौज करने निकल पड़ी है ॥



फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है।



भरोसा था मुझको मेरे बाबा,

यकीन था तेरी रहमतों पे ।

था बैठा चोखट पे तेरी कब से,

था बैठा चोखट पे तेरी कब से,

निगाहें निर्धन पे अब पड़ी है ॥



फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है ।



सजाऊँ तुझको निहारूँ तुझको,

पखारूँ चरणों को मैं श्याम तेरे ।

मैं नाचूँ बनकर के मोर बाबा,

मैं नाचूँ बनकर के मोर बाबा,

ये भावनाएं मचल पड़ी है ॥



फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है ।



हँसे या कुछ भी कहे जमाना,

जो रूठे तो कोई गम नही है ।

मगर जो रूठा तू बाबा मुझसे,

मगर जो रूठा तू बाबा मुझसे,

बहेगी अश्को की ये झड़ी है ॥



फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है ।



फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है ।

पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत,

पड़ी जो सोई थी मेरी किस्मत,

वो मौज करने निकल पड़ी है ॥



फंसी भंवर में थी मेरी नैया,

चलाई तूने तो चल पड़ी है ।

भजन: बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया (Brij Ke Nandlala Radha Ke Sanwariya)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 15 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 15)

जिनका मैया जी के चरणों से संबंध हो गया (Jinka Maiya Ji Ke Charno Se Sabandh Hogaya)

करवा चौथ व्रत कथा: पतिव्रता करवा धोबिन की कथा! (Karwa Chauth Vrat Katha 3)

कहा प्रभु से बिगड़ता क्या: भजन (Kaha Prabhu Se Bigadta Kya)

श्री कृष्णाष्टकम् (Shri Krishnashtakam)

ना जी भर के देखा, ना कुछ बात की: भजन (Na Jee Bhar Ke Dekha Naa Kuch Baat Ki)

आरती: श्री गंगा मैया जी (Shri Ganga Maiya Ji)

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है: भजन (Chalo Bulawa Aaya Hai Mata Ne Bulaya Hai)

श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग उत्पत्ति पौराणिक कथा (Shri Nageshwar Jyotirlinga Utpatti Pauranik Katha)

माँ बगलामुखी अष्टोत्तर-शतनाम-स्तोत्रम् (Maa Baglamukhi Ashtottara Shatnam Stotram)

श्री हनुमान जी आरती (Shri Hanuman Ji Ki Aarti)