दुनिया बावलियों बतलावे.. श्री श्याम भजन (Duniyan Bawaliyon Batlawe)

तू भी तो कोनी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे।



दोहा:

सावन आवन कह गया रे,

कर गया कोल अनेक,

गिणता गिणता घिस गई रे,

म्हारी आंगलिया री रेख ।



तू भी तो कोनी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे,

थारी ओल्यू घणी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे,

बावलियों बतलावे रे मन्ने,

बावलियों बतलावे रे मन्ने,

बावलियों बतलावे,

तु भी तो कोनी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे,

थारी ओल्यू घणी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे ॥



हेलो सुण ले सांवरा रे,

हो गई घणी अंधेर,

तू ही तो खाया से झूठा,

भीलनी के घर बेर,

तरसावे सांवरिया तू क्यों,

हिवड़ो हरी जस गावे,

तु भी तो कोनी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे,

थारी ओल्यू घणी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे ॥



बिच सभा में खड़ी द्रोपदी,

नैना बरसे नीर

तू ही बता गिरधारी वाको,

कौण बढ़ायो चीर,

डुब्या गज ने भाग बचायो,

सांवरिया क्यों सतावे,

तु भी तो कोनी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे,

थारी ओल्यू घणी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे ॥



नींदडली दिन रात कटे रे,

कद खिचोला डोर,

कुछ भी कोन्या भावे जब से,

ले गयो तू चित चोर,

प्रीत लगाकर के पछताणो,

प्रीत लगाकर के पछताणो,

लहरी हसतो जावे रे,

तु भी तो कोनी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे,

थारी ओल्यू घणी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे ॥



तू भी तो कोनी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे,

थारी ओल्यू घणी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे,

बावलियों बतलावे रे मन्ने,

बावलियों बतलावे रे मन्ने,

बावलियों बतलावे,

तु भी तो कोनी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे,

थारी ओल्यू घणी आवे,

दुनिया बावलियों बतलावे ॥

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी: भजन (Darshan Do Ghansyam Nath Mori Akhiyan Pyasi Re)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 5 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 5)

भगवान श्री चित्रगुप्त जी की आरती (Bhagwan Shri Chitragupt Aarti)

भजन: बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया (Brij Ke Nandlala Radha Ke Sanwariya)

भजन: बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया (Brindavan Ka Krishan Kanhaiya Sabki Aankhon Ka Tara)

जिनका मैया जी के चरणों से संबंध हो गया (Jinka Maiya Ji Ke Charno Se Sabandh Hogaya)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 21 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 21)

अहोई अष्टमी व्रत कथा (Ahoi Ashtami Vrat Katha)

श्री शनि देव: आरती कीजै नरसिंह कुंवर की (Shri Shani Dev Aarti Keejai Narasinh Kunwar Ki)

भगवन लौट अयोध्या आए.. (Bhagwan Laut Ayodhya Aaye)

हर महादेव आरती: सत्य, सनातन, सुंदर (Har Mahadev Aarti: Satya Sanatan Sundar)

भजन: झूलन चलो हिंडोलना, वृषभान नंदनी (Jjhulan Chalo Hindolana Vrashbhanu Nandni)