आपने अपना बनाया मेहरबानी आपकी: भजन (Aapne Apna Banaya Meharbani Aapki)

आपने अपना बनाया मेहरबानी आपकी,

हम तो इस काबिल ही ना थे,

ये कदर दानी आपकी,

आपने अपना बनाया मेहरबानी आपकी॥



मैं तो तुम से हर तरह,

होकर अलग भागा रहा,

इस जहाँ के दौर मैं,

अटका रहा भटका रहा,

लगा लिया मुझको गले से,

ये रवानी आपकी,

आपने अपना बनाया मेहरबानी आपकी॥



कहाँ है तू और कहाँ हूँ मैं,

ये मिलना भी क्या हो सकता था,

कर कर गुनाह इस तमाश गाहे आलम मैं,

मैं भटका रहा,

बे-सबब हो गई ये रेहमतानी आपकी,

आपने अपना बनाया मेहरबानी आपकी॥



अब तो प्यारे आपके कदमों पे

सर को मैंने रख दिया,

हम इनायत हम नवाजिश,

इस करम का शुक्रिया,

तुम हमारे हम तुम्हारे,

ये जिंदगानी आपकी,

आपने अपना बनाया मेहरबानी आपकी॥



बरसो से उजड़ा पड़ा था,

मेरे दिल का ये चमन,

उजड़ी बगिया खिल उठी,

जब हो गया तेरा आगमन,

आप ने जो गुल खिलाया,

मेहरबानी आपकी,

आपने अपना बनाया मेहरबानी आपकी॥



आपने अपना बनाया मेहरबानी आपकी,

हम तो इस काबिल ही ना थे,

ये कदर दानी आपकी,

आपने अपना बनाया मेहरबानी आपकी॥

भजन: पूछ रही राधा बताओ गिरधारी (Pooch Rahi Radha Batao Girdhari)

जो विधि कर्म में लिखे विधाता: भजन (Jo Vidhi Karam Me Likha Vidhata)

भजन: हम सब मिलके आये, दाता तेरे दरबार (Hum Sab Milke Aaye Data Tere Darbar)

जय जय जननी श्री गणेश की: भजन (Jai Jai Janani Shri Ganesh ki)

मंत्र: श्री शिव पंचाक्षर स्तोत्र (Shri Shiv Panchakshar Stotram)

पद्मिनी एकादशी व्रत कथा (Padmini Ekadashi Vrat Katha)

गणनायकाय गणदेवताय गणाध्यक्षाय धीमहि। (Gananaykay Gandevatay Ganadhyakshay Dheemahi)

महेश वंदना: किस विधि वंदन करू तिहारो (Kis Vidhi Vandan Karun Tiharo Aughardani)

गोपाल गोकुल वल्लभे, प्रिय गोप गोसुत वल्लभं (Gopal Gokul Valbhe Priya Gop Gosut Valbham)

धर्मराज आरती - धर्मराज कर सिद्ध काज (Dharmraj Ki Aarti - Dharmraj Kar Siddh Kaaj)

श्रीदेवीजी की आरती - जगजननी जय! जय! (Shri Deviji Ki Aarti - Jaijanani Jai Jai)

शंकर मेरा प्यारा.. माँ री माँ मुझे मूरत ला दे (Shankar Mera Pyara.. Maa Ri Maa Mujhe Murat La De)