दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी: भजन (Darshan Do Ghansyam Nath Mori Akhiyan Pyasi Re)

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी,

अँखियाँ प्यासी रे ।

मन मंदिर की जोत जगा दो,

घट घट वासी रे ॥




मंदिर मंदिर मूरत तेरी,


फिर भी न दीखे सूरत तेरी ।


युग बीते ना आई मिलन की,


पूरनमासी रे ॥



दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी,

अँखियाँ प्यासी रे ।




द्वार दया का जब तू खोले,


पंचम सुर में गूंगा बोले ।


अंधा देखे लंगड़ा चलकर,


पँहुचे काशी रे ॥



दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी,

अँखियाँ प्यासी रे ।




पानी पी कर प्यास बुझाऊँ,


नैनन को कैसे समझाऊं ।


आँख मिचौली छोड़ो अब तो,


मन के वासी रे ॥



दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी,

अँखियाँ प्यासी रे ।




निबर्ल के बल धन निधर्न के,


तुम रखवाले भक्त जनों के ।


तेरे भजन में सब सुख़ पाऊं,


मिटे उदासी रे ॥



दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी,

अँखियाँ प्यासी रे ।




नाम जपे पर तुझे ना जाने,


उनको भी तू अपना माने ।


तेरी दया का अंत नहीं है,


हे दुःख नाशी रे ॥



दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी,

अँखियाँ प्यासी रे ।




आज फैसला तेरे द्वार पर,


मेरी जीत है तेरी हार पर ।


हर जीत है तेरी मैं तो,


चरण उपासी रे ॥



दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी,

अँखियाँ प्यासी रे ।




द्वार खडा कब से मतवाला,


मांगे तुम से हार तुम्हारी ।


नरसी की ये बिनती सुनलो,


भक्त विलासी रे ॥



दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी,

अँखियाँ प्यासी रे ।




लाज ना लुट जाए प्रभु तेरी,


नाथ करो ना दया में देरी ।


तिन लोक छोड़ कर आओ,


गंगा निवासी रे ॥



दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी,

अँखियाँ प्यासी रे ।

मन मंदिर की जोत जगा दो,

घट घट वासी रे ॥



Movie: नरसी भगत १९५७ - Narsi Bhagat

Singers: हेमंत कुमार मुखोपाध्याय - Hemant Kumar

Lyricists: गोपाल सिंह नेपाली - G S Nepali

Music Director: रवि शंकर शर्मा (रवि) - Ravi

भजन: राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद (Ram Ko Dekh Ke Janak Nandini Aur Sakhi Samvad)

सियारानी का अचल सुहाग रहे - भजन (Bhajan: Siyarani Ka Achal Suhag Rahe)

भजन: जिसने मरना सीखा लिया है (Jisane Marana Seekh Liya Hai)

जानकी स्तुति - भइ प्रगट किशोरी (Janaki Stuti - Bhai Pragat Kishori)

भजन: बड़ी देर भई, कब लोगे खबर मोरे राम (Bhajan: Badi Der Bhai Kab Loge Khabar More Ram)

बिनती सुनिए नाथ हमारी.. भजन (Bhajan: Binati Suniye Nath Hamari)

काली कमली वाला मेरा यार है: भजन (Kali Kamali Wala Mera Yar Hai)

नंगे नंगे पाँव चल आ गया री: नवरात्रि भजन (Nange Nange Paon Chal Aagaya Ri)

भगवन लौट अयोध्या आए.. (Bhagwan Laut Ayodhya Aaye)

अथ श्री बृहस्पतिवार व्रत कथा | बृहस्पतिदेव की कथा (Shri Brihaspatidev Ji Vrat Katha)

भजन: करदो करदो बेडा पार राधे अलबेली सरकार (Kardo Kardo Beda Paar Radhe Albeli Sarkar)

भजन: तुम से लागी लगन.. पारस प्यारा (Tumse Lagi Lagan Le Lo Apni Sharan Paras Pyara)