भजन: बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया (Brindavan Ka Krishan Kanhaiya Sabki Aankhon Ka Tara)

बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया

सब की आँखों का तारा

मन ही मन क्यों जले राधिका

मोहन तो है सब का प्यारा

॥ बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया..॥



जमना तट पर नन्द का लाला

जब जब रास रचाये रे

तन मन डोले कान्हा ऐसी

बंसी मधुर बजाये रे

सुध-बुध भूली खड़ी गोपियाँ

जाने कैसा जादू डारा

॥ बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया..॥



रंग सलोना ऐसा जैसे

छाई हो घट सावन की

ऐ री मैं तो हुई दीवानी

मनमोहन मन भावन की

तेरे कारण देख बाँवरे

छोड़ दिया मैं ने जग सारा



बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया

सब की आँखों का तारा

मन ही मन क्यों जले राधिका

मोहन तो है सब का प्यारा

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 4 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 4)

जिसकी लागी रे लगन भगवान में..! (Jiski Lagi Re Lagan Bhagwan Mein)

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी: आरती (Jai Ambe Gauri Maiya Jai Shyama Gauri)

श्री राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे (Shri Ram Raameti Raameti, Rame Raame Manorame)

देवोत्थान / प्रबोधिनी एकादशी व्रत कथा (Devutthana Ekadashi Vrat Katha)

गुरुदेव आरती - श्री नंगली निवासी सतगुरु (Guru Aarti - Shri Nangli Niwasi Satguru)

श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग उत्पत्ति पौराणिक कथा (Shri Nageshwar Jyotirlinga Utpatti Pauranik Katha)

सच्चा है माँ का दरबार, मैय्या का जवाब नहीं: भजन (Saccha Hai Maa Ka Darbar, Maiya Ka Jawab Nahi)

जगत में कोई ना परमानेंट: भजन (Jagat Me Koi Na Permanent)

जगमग जगमग जोत जली है, आरती श्री राम जी (Jagmag Jyot Jali Hai Shri Ram Aarti)

भरी उनकी आँखों में है, कितनी करुणा: भजन (Bhajan: Bhari Unki Ankho Mein Hai Kitni Karuna)

हो हो बालाजी मेरा संकट काटो ने - भजन (Ho Ho Balaji Mera Sankat Kato Ne)