भजन: बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया (Brindavan Ka Krishan Kanhaiya Sabki Aankhon Ka Tara)

बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया

सब की आँखों का तारा

मन ही मन क्यों जले राधिका

मोहन तो है सब का प्यारा

॥ बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया..॥



जमना तट पर नन्द का लाला

जब जब रास रचाये रे

तन मन डोले कान्हा ऐसी

बंसी मधुर बजाये रे

सुध-बुध भूली खड़ी गोपियाँ

जाने कैसा जादू डारा

॥ बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया..॥



रंग सलोना ऐसा जैसे

छाई हो घट सावन की

ऐ री मैं तो हुई दीवानी

मनमोहन मन भावन की

तेरे कारण देख बाँवरे

छोड़ दिया मैं ने जग सारा



बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया

सब की आँखों का तारा

मन ही मन क्यों जले राधिका

मोहन तो है सब का प्यारा

बनवारी रे! जीने का सहारा तेरा नाम रे: भजन (Banwari Re Jeene Ka Sahara Tera Naam Re)

जगदीश ज्ञान दाता: प्रार्थना (Jagadish Gyan Data: Prarthana)

कनक भवन दरवाजे पड़े रहो: भजन (Kanak Bhawan Darwaje Pade Raho)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 22 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 22)

तुलसी विवाह पौराणिक कथा (Tulsi Vivah Pauranik Katha)

तुम बिन मोरी कौन खबर ले गोवर्धन गिरधारी: श्री कृष्ण भजन (Tum Bin Mori Kaun Khabar Le Govardhan Girdhari)

बारिशों की छम छम में - नवरात्रि भजन (Barisho Ki Cham Cham Mein)

मनमोहन कान्हा विनती करू दिन रेन: भजन (Manmohan Kanha Vinti Karu Din Rain)

माँ तुलसी अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली (Tulsi Ashtottara Shatnam Namavali)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 30 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 30)

ब्रजराज ब्रजबिहारी! इतनी विनय हमारी (Brajaraj Brajbihari Itni Vinay Hamari)

जिनका मैया जी के चरणों से संबंध हो गया (Jinka Maiya Ji Ke Charno Se Sabandh Hogaya)