आए हैं प्रभु श्री राम, भरत फूले ना समाते: भजन (Aaye Hain Prabhu Shri Ram Bharat Fule Na Samate)

आए हैं प्रभु श्री राम,

भरत फूले ना समाते हैं ।

आए हैं प्रभु श्री राम,

भरत फूले ना समाते हैं ।



तन पुलकित मुख बोल ना आए,

प्रभु पद कमल रहे हिए लाये ।

भूमि पड़े हैं भरत जी,

उन्हें रघुनाथ उठाते हैं ॥



आए हैं प्रभु श्री राम,

भरत फूले ना समाते हैं ।

आए हैं प्रभु श्री राम,

भरत फूले ना समाते हैं ।



प्रेम सहित निज हिय से लगाए,

नैनो में तब जल भर आए ।

मिल के गले चारों भैया,

खुशी के आंसू बहाते हैं ॥



आए हैं प्रभु श्री राम,

भरत फूले ना समाते हैं ।

आए हैं प्रभु श्री राम,

भरत फूले ना समाते हैं ।



नर नारी सब मंगल गावे,

नव से सुमन देव बरसावे ।

भक्त सभी जन मिलके,

अवध में दीपक जलाते हैं ॥



आए हैं प्रभु श्री राम,

भरत फूले ना समाते हैं ।

आए हैं प्रभु श्री राम,

भरत फूले ना समाते हैं ।

हमारे हैं श्री गुरुदेव, हमें किस बात की चिंता (Hamare Hain Shri Gurudev Humen Kis Bat Ki Chinta)

श्री सत्यनारायण कथा - पंचम अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Pancham Adhyay)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 30 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 30)

हम तो दीवाने मुरलिया के, अजा अजा रे लाल यशोदा के (Hum Too Diwane Muraliya Ke Aaja Aaje Re Lal Yashoda Ke)

हरि कर दीपक, बजावें संख सुरपति (Hari Kar Deepak Bajave Shankh Surpati)

ब्रजराज ब्रजबिहारी! इतनी विनय हमारी (Brajaraj Brajbihari Itni Vinay Hamari)

पापांकुशा एकादशी व्रत कथा! (Papankusha Ekadashi Vrat Katha)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 8 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 8)

आली री मोहे लागे वृन्दावन नीको: भजन (Aali Ri Mohe Lage Vrindavan Neeko)

मेरे सरकार का, दीदार बड़ा प्यारा है: भजन (Mere Sarkar Ka Didar Bada Pyara Hai)

जयति जयति जग-निवास, शंकर सुखकारी (Jayati Jayati Jag Niwas Shankar Sukhkari)

मेरी आखिओं के सामने ही रहना: भजन (Meri Akhion Ke Samne Hi Rehina Oh Shero Wali Jagdambe)