दे प्रभो वरदान ऐसा: प्रार्थना (De Prabhu Vardan Yesa: Prarthana)

दे प्रभो वरदान ऐसा,

दे विभो वरदान ऐसा ।

भूल जाऊं भेद सब,

अपना पराया मान तैसा ॥



मुक्त होऊं बन्धनों से,

मोह माया पाश टूटे ।

स्वार्थ, ईर्षा, द्वेष, आदिक,

दुर्गुणों का संग छूटे ॥



प्रेम मानस में भरा हो,

हो हृदय में शान्ति छायी ।

देखता होऊं जिधर मैं,

दे उधर तू ही दिखायी ॥



नष्ट हो सब भिन्नता, फिर,

बैर और विरोध कैसा ।

भूल जाऊं भेद सब,

अपना पराया मान तैसा ॥



दे प्रभो वरदान ऐसा,

दे विभो ! वरदान ऐसा ॥



ज्ञान के आलोक से,

उज्ज्वल बने यह चित्त मेरा ।

लुप्त हो अज्ञान का,

अविचार का छाया अंधेरा ॥



हे प्रभो परमार्थ के शुभ-

कार्य में रुचि नित्य मेरी ।

दीन दुखियों की कुटी में,

ही मिले अनुभूति तेरी ॥



दूसरों के दुःख को,

समझूं सदा मैं आप जैसा ।

भूल जाऊं भेद सब,

अपना पराया मान तैसा ॥



दे प्रभो वरदान ऐसा,

दे विभो ! वरदान ऐसा ॥



हे अभय अविवेक तज शुचि,

सत्य पथ गामी बनूं मैं ।

आपदाओं से भला क्या,

काल से भी न डरूं मैं ॥



सत्य को ही धर्म मानूं,

सत्य को ही साधना मैं ।

सत्य के ही रूप में,

तेरी करूं आराधना मैं ॥



भूल जाऊं भेद सब,

अपना पराया मान तैसा ॥

दे प्रभो वरदान ऐसा,

दे विभो ! वरदान ऐसा ॥

राम तुम बड़े दयालु हो: भजन (Ram Tum Bade Dayalu Ho)

राम नाम सुखदाई, भजन करो भाई! (Ram Naam Sukhdai Bhajan Karo Bhai Yeh Jeevan Do Din Ka)

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी: भजन (Ik Din Vo Bhole Bhandari Banke Braj Ki Nari)

विधाता तू हमारा है: प्रार्थना (Vidhata Tu Hamara Hai: Prarthana)

मन मेरा मंदिर, शिव मेरी पूजा: भजन (Man Mera Mandir Shiv Meri Pooja)

श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग उत्पत्ति पौराणिक कथा (Shri Nageshwar Jyotirlinga Utpatti Pauranik Katha)

मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो: शिव भजन (Mere Bhole Baba Ko Anadi Mat Samjho)

श्री गौ अष्टोत्तर नामावलि - गौ माता के 108 नाम (Gau Mata Ke 108 Naam)

कृपा की न होती जो, आदत तुम्हारी: भजन (Kirpa Ki Na Hoti Jo Addat Tumhari)

येषां न विद्या न तपो न दानं... (Yeshaan Na Vidya Na Tapo Na Danan)

मोक्षदा एकादशी व्रत कथा (Mokshada Ekadashi Vrat Katha)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 19 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 19)