तुम्हारी जय हो वीर हनुमान भजन (Tumhari Jai Ho Veer Hanuman Bhajan)

तुम्हारी जय हो वीर हनुमान,

ओ रामदूत मतवाले हो बड़े दिल वाले,

जगत में ऊंची तुम्हारी शान,

तुम्हारी जय हो वीर हनुमान ।



भूख लगी तो समझ के फल,

सूरज को मुख में डाला,

अन्धकार फैला सृष्टि में,

हाहाकार विकराला,

आन करि विनती देवो ने,

विपदा को किया निवार,

तुम्हारी जय हो वीर हनुमान ।



सोने की लंका को जला कर,

राख का ढेर बनाया,

तहस-नहस बगियन कर दी,

अक्षय को मार गिराया,

लाये संजीवन बूटी,

बचाई भाई लखन की जान,

तुम्हारी जय हो वीर हनुमान ।



रोम रोम में राम रमे बस,

राम भजन ही भाये,

सरल तुम्हारा भजन करे जो,

संकट उस के मिटाये,

तेल सिंधुर चढ़ाये जो,

लखा दिया अबे का दान,

तुम्हारी जय हो वीर हनुमान ।



तुम्हारी जय हो वीर हनुमान,

ओ रामदूत मतवाले हो बड़े दिल वाले,

जगत में ऊंची तुम्हारी शान,

तुम्हारी जय हो वीर हनुमान ।

भजन: घर आये राम लखन और सीता (Ghar Aaye Ram Lakhan Aur Sita)

छठ पूजा: पहिले पहिल, छठी मईया व्रत तोहार। (Chhath Puja: Pahile Pahil Chhathi Maiya)

श्री कृष्णाष्टकम् (Shri Krishnashtakam)

करवा चौथ व्रत कथा: द्रौपदी को श्री कृष्ण ने सुनाई कथा! (Karwa Chauth Vrat Katha)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 12 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 12)

जय जय शनि देव महाराज: भजन (Aarti Jai Jai Shanidev Maharaj)

भजन: ना जाने कौन से गुण पर, दयानिधि रीझ जाते हैं! (Na Jane Kaun Se Gun Par Dayanidhi Reejh Jate Hain)

मैं तो बांके की बांकी बन गई (Main Toh Banke Ki Banki Ban Gayi)

सकट चौथ पौराणिक व्रत कथा - राजा हरिश्चंद्र.. (Sakat Chauth Pauranik Vrat Katha)

भजन: श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी (Bhajan: Shri Krishna Govind Hare Murari)

महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् - अयि गिरिनन्दिनि (Mahishasura Mardini Stotram - Aigiri Nandini)

भजन: आजु मिथिला नगरिया निहाल सखिया (Aaj Mithila Nagariya Nihar Sakhiya)