विन्ध्येश्वरी आरती: सुन मेरी देवी पर्वतवासनी (Sun Meri Devi Parvat Vasani)

भक्त इन पंक्तियां को
स्तुति श्री हिंगलाज माता
और
श्री विंध्येश्वरी माता
की आरती के रूप मे प्रयोग करते हैं:



सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।

कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥




पान सुपारी ध्वजा नारियल ।


ले तेरी भेंट चढ़ायो माँ ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥



सुवा चोली तेरी अंग विराजे ।

केसर तिलक लगाया ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥




नंगे पग मां अकबर आया ।


सोने का छत्र चडाया ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥



ऊंचे पर्वत बनयो देवालाया ।

निचे शहर बसाया ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥




सत्युग, द्वापर, त्रेता मध्ये ।


कालियुग राज सवाया ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥



धूप दीप नैवैध्य आर्ती ।

मोहन भोग लगाया ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥




ध्यानू भगत मैया तेरे गुन गाया ।


मनवंचित फल पाया ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥



आरती:
जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी

भजन: तेरा किसने किया श्रृंगार सांवरे (Tera Kisne Kiya Shringar Sanware)

शिव स्तुति: ॐ वन्दे देव उमापतिं सुरगुरुं (Shiv Stuti: Om Vande Dev Umapatin Surguru)

वरुथिनी एकादशी व्रत कथा (Varuthini Ekadashi Vrat Katha)

मैं बालक तू माता शेरां वालिए! (Main Balak Tu Mata Sherawaliye)

अथ दुर्गाद्वात्रिंशन्नाममाला - श्री दुर्गा द्वात्रिंशत नाम माला (Shri Durga Dwatrinshat Nam Mala)

मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का: भजन (Mukut Sir Mor Ka, Mere Chit Chor Ka)

जन्म बधाई भजन: घर घर बधाई बाजे रे देखो (Ghar Ghar Badhai Baje Re Dekho)

सावन भजन: आई बागों में बहार, झूला झूले राधा प्यारी (Aai Bhagon Me Bahar Jhula Jhule Radha Rani)

मैं तो बांके की बांकी बन गई (Main Toh Banke Ki Banki Ban Gayi)

थे झूलो री म्हारी मायड़ तो मन हरषे: भजन (The Jhulo Ri Mahari Mayad To Man Harshe)

जगत में कोई ना परमानेंट: भजन (Jagat Me Koi Na Permanent)

बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ: भजन (Beta Bulaye Jhat Daudi Chali Aaye Maa)