विन्ध्येश्वरी आरती: सुन मेरी देवी पर्वतवासनी (Sun Meri Devi Parvat Vasani)

भक्त इन पंक्तियां को
स्तुति श्री हिंगलाज माता
और
श्री विंध्येश्वरी माता
की आरती के रूप मे प्रयोग करते हैं:



सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।

कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥




पान सुपारी ध्वजा नारियल ।


ले तेरी भेंट चढ़ायो माँ ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥



सुवा चोली तेरी अंग विराजे ।

केसर तिलक लगाया ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥




नंगे पग मां अकबर आया ।


सोने का छत्र चडाया ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥



ऊंचे पर्वत बनयो देवालाया ।

निचे शहर बसाया ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥




सत्युग, द्वापर, त्रेता मध्ये ।


कालियुग राज सवाया ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥



धूप दीप नैवैध्य आर्ती ।

मोहन भोग लगाया ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥




ध्यानू भगत मैया तेरे गुन गाया ।


मनवंचित फल पाया ॥




सुन मेरी देवी पर्वतवासनी ।


कोई तेरा पार ना पाया माँ ॥



आरती:
जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी

हाथी का शीश ही क्यों श्रीगणेश के लगा? (Hathi Ka Sheesh Hi Kiyon Shri Ganesh Ke Laga?)

अयोध्या नाथ से जाकर पवनसुत हाल कह देना: भजन (Ayodhya Nath Se Jakar Pawansut Hal Kah Dena )

करती हूँ तुम्हारा व्रत मैं - माँ संतोषी भजन (Karti Hu Tumhara Vrat Main)

हर हाल में खुश रहना: भजन (Har Haal Me Khush Rehna)

श्री झूलेलाल आरती- ॐ जय दूलह देवा! (Shri Jhulelal Om Jai Doolah Deva)

भजन: तेरा पल पल बीता जाए! (Tera Pal Pal Beeta Jay Mukhse Japle Namah Shivay)

भोले तेरी बंजारन: भजन (Bhole Teri Banjaran)

पतिव्रता सती माता अनसूइया की कथा (Pativrata Sati Mata Ansuiya Ki Katha)

हो लाल मेरी पत रखियो बला - दमादम मस्त कलन्दर: भजन (O Lal Meri Pat Rakhiyo Bala Duma Dum Mast Kalandar)

जयति जयति जग-निवास, शंकर सुखकारी (Jayati Jayati Jag Niwas Shankar Sukhkari)

श्री शाकुम्भरी देवी जी की आरती (Shakumbhari Devi Ki Aarti)

भजन: बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया (Brij Ke Nandlala Radha Ke Sanwariya)