सर्व भयानक रोग नाशक मंत्र (Sarv Bhayanak Rog Nashak Mantra)

यह मंत्र जैन समाज के प्रसिद्ध
भक्तामर स्तोत्र
का 45वाँ मंत्र है जिसके श्रवण एवं जाप से भयंकर जलोदर रोगों का नाश होता है। अतः इस मंत्र को
रोग-उन्मूलन मंत्र
भी कहा जाता है।




उद्भूत-भीषण-जलोदर-भार-भुग्नाः,


शोच्यां दशा-मुपगताश्-च्युत-जीविताशाः ।


त्वत्पाद-पंकज-रजो-मृत-दिग्ध-देहाः,


मर्त्या भवन्ति मकर-ध्वज-तुल्य-रूपाः ॥




हिन्दी भावार्थ:

उत्पन्न हुए भीषण जलोदर रोग के भार से झुके हुए, शोभनीय अवस्था को प्राप्त और नहीं रही है जीवन की आशा जिनके, ऐसे मनुष्य आपके चरण कमलों की रज रुप अम्रत से लिप्त शरीर होते हुए कामदेव के समान रुप वाले हो जाते हैं।



मंत्र: रोग-व्याधि सभी दूर करने हेतु | रोग-उन्मूलन मंत्र

ॐ जय जगदीश हरे आरती (Aarti: Om Jai Jagdish Hare)

शरण में आये हैं हम तुम्हारी: भजन (Sharan Mein Aaye Hain Hum Tumhari)

भए प्रगट कृपाला दीनदयाला: भजन (Bhaye Pragat Kripala Din Dayala)

एकादशी माता की आरती (Ekadashi Mata Ki Aarti)

बताओ कहाँ मिलेगा श्याम: भजन (Batao Kahan Milega Shyam)

भागवत कथा प्रसंग: कुंती ने श्रीकृष्ण से दुख क्यों माँगा? (Kunti Ne Shrikrishna Se Upahar Mein Dukh Kyon Manga)

भजन: हरि नाम के रस को पी पीकर (Hari Naam Ke Ras Ko Pee Peekar)

प्रभु हम पे कृपा करना, प्रभु हम पे दया करना: भजन (Prabhu Humpe Daya Karna)

हे दयामय आप ही संसार के आधार हो। (Hey Dayamay Aap Hi Sansar Ke Adhar Ho)

हमारे हैं श्री गुरुदेव, हमें किस बात की चिंता (Hamare Hain Shri Gurudev Humen Kis Bat Ki Chinta)

संकटनाशन गणेश स्तोत्र - प्रणम्यं शिरसा देव गौरीपुत्रं विनायकम (Shri Sankat Nashan Ganesh Stotra)

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है: भजन (Chalo Bulawa Aaya Hai Mata Ne Bulaya Hai)