राम भजा सो जीता जग में - भजन (Ram Bhaja So Jeeta Jag Me)

राम भजा सो जीता जग में,

राम भजा सो जीता रे।



​हृदय शुद्ध नही कीन्हों मूरख,

कहत सुनत दिन बीता रे।

राम भजा सो जीता जग में ...



हाथ सुमिरनी, पेट कतरनी,

पढ़ै भागवत गीता रे।

हिरदय सुद्ध किया नहीं बौरे,

कहत सुनत दिन बीता रे।

राम भजा सो जीता जग में ...



और देव की पूजा कीन्ही,

हरि सों रहा अमीता रे।

धन जौबन तेरा यहीं रहेगा,

अंत समय चल रीता रे।

राम भजा सो जीता जग में ...



बाँवरिया बन में फंद रोपै,

संग में फिरै निचीता रे।

कहे 'कबीर' काल यों मारे,

जैसे मृग कौ चीता रे।​

राम भजा सो जीता जग में ...

भोजन मन्त्र: ॐ सह नाववतु। (Bhojan Mantra Om Sah Naavavatu)

विद्यां ददाति विनयं! (Vidya Dadati Vinayam)

बेलपत्र / बिल्वपत्र चढ़ाने का मंत्र (Belpatra Mantra)

सच्चा है माँ का दरबार, मैय्या का जवाब नहीं: भजन (Saccha Hai Maa Ka Darbar, Maiya Ka Jawab Nahi)

श्री सत्यनारायण कथा - चतुर्थ अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Chaturth Adhyay)

भजन: शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ (Shiv Shankar Ko Jisne Pooja)

भजन: हे शम्भू बाबा मेरे भोले नाथ (Hey Shambhu Baba Mere Bhole Nath)

पतिव्रता सती माता अनसूइया की कथा (Pativrata Sati Mata Ansuiya Ki Katha)

भजन: मैं तो संग जाऊं बनवास, स्वामी.. (Bhajan: Main Too Sang Jaun Banwas)

जय श्री वल्लभ, जय श्री विट्ठल, जय यमुना श्रीनाथ जी: भजन (Jai Shri Vallabh Jai Shri Vithal, Jai Yamuna Shrinathji)

राम के दुलारे, माता जानकी के प्यारे: भजन (Ram Ke Dulare, Mata Janki Ke Pyare)

शंकर तेरी जटा से बहती है गंग धारा (Shankar Teri Jata Se Behti Hai Gang Dhara)