पकड़ लो बाँह रघुराई, नहीं तो डूब जाएँगे: भजन (Pakadlo Bah Raghurai, Nahi Too Doob Jayenge)

पकड़ लो बाँह रघुराई,

नहीं तो डूब जाएँगे ।




डगर ये अगम अनजानी,


पथिक मै मूड अज्ञानी ।


संभालोगे नही राघव,


तो कांटे चुभ जाएँगे ।

पकड़ लो बाँह रघुराई,

नहीं तो डूब जाएँगे ।




नहीं बोहित मेरा नौका,


नहीं तैराक मै पक्का ।


कृपा का सेतु बंधन हो,


प्रभु हम खूब आएँगे ।

पकड़ लो बाँह रघुराई,

नहीं तो डूब जाएँगे ।




नहीं है बुधि विधा बल,


माया में डूबी मती चंचल ।


निहारेंगे मेरे अवगुण तो,


प्रभु जी ऊब जाएँगे ।

पकड़ लो बाँह रघुराई,

नहीं तो डूब जाएँगे ।




प्रतीक्षारत है ये आँगन,


शरण ले लो सिया साजन ।


शिकारी चल जिधर प्रहलाद,


जी भूल जाएँगे ।

पकड़ लो बाँह रघुराई,

नहीं तो डूब जाएँगे ।

नहीं तो डूब जाएँगे,

नहीं तो डूब जाएँगे ।

महेश वंदना: किस विधि वंदन करू तिहारो (Kis Vidhi Vandan Karun Tiharo Aughardani)

जन्म बधाई भजन: घर घर बधाई बाजे रे देखो (Ghar Ghar Badhai Baje Re Dekho)

हम तो दीवाने मुरलिया के, अजा अजा रे लाल यशोदा के (Hum Too Diwane Muraliya Ke Aaja Aaje Re Lal Yashoda Ke)

भजन: बांटो बांटो मिठाई मनाओ ख़ुशी (Banto Banto Mithai Manao Khushi)

श्रीषङ्गोस्वाम्यष्टकम् (Sri Sad-Goswamyastakam)

बधाई भजन: बजे कुण्डलपर में बधाई, के नगरी में वीर जन्मे (Badhai Bhajan Baje Kundalpur Me Badayi Nagri Me Veer Janme)

श्री रुद्राष्टकम् (Shri Rudrashtakam - Goswami Tulasidas Krat)

भजन: सांवली सूरत पे मोहन, दिल दीवाना हो गया! (Sanwali Surat Pe Mohan Dil Diwana Ho Gaya)

आओ यशोदा के लाल: भजन (Aao Yashoda Ke Laal)

हो गए भव से पार लेकर नाम तेरा: भजन (Ho Gaye Bhav Se Par Lekar Naam Tera)

मैं बालक तू माता शेरां वालिए! (Main Balak Tu Mata Sherawaliye)

दूसरों का दुखड़ा दूर करने वाले: भजन (Doosron Ka Dukhda Door Karne Wale)