भजन: मेरो लाला झूले पालना, नित होले झोटा दीजो ! (Mero Lala Jhule Palna Nit Hole Jhota Dijo)

मेरो लाला झूले पालना, नित होले झोटा दीजो

नित होले झोटा दीजो, नित होले झोटा दीजो



मेरो लाला झूले पालना, नित होले झोटा दीजो

नित होले झोटा दीजो, नित होले झोटा दीजो



मथुरा में जाको जनम लियो है, मतुरा में जाको जनम लियो है

गोकुल में झुले पालना, नित होले झोटा दीजो॥ मेरो लाला झूले पालना ॥



काहे को जाको बनो है पालनो, काहे को जाको बनो है पालनो

काहे के लागे फूलना, नित होले झोटा दीजो॥ मेरो लाला झूले पालना ॥



रत्न जड़ित जाको बनो है पालनौ, रत्न जड़ित जाको बनो है पालनौ

रेशम के लागे फूलना, नित होले झोटा दीजो॥ मेरो लाला झूले पालना ॥



चन्द्र सखी भज बाल कृष्ण छवि, चन्द्र सखी भेज बाल कृष्ण छवि

चीरजीवो ये लालना, नित होले झोटा दीजो॥ मेरो लाला झूले पालना ॥



मेरो लाला झूले पालना, नित होले झोटा दीजो

नित होले झोटा दीजो, नित होले झोटा दीजो




Read Also

»
दिल्ली मे कहाँ मनाएँ श्री कृष्ण जन्माष्टमी।
|
भोग प्रसाद

»
श्री कृष्ण जन्माष्टमी - Shri Krishna Janmashtami

»
दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर।
|
जानें दिल्ली मे ISKCON मंदिर कहाँ-कहाँ हैं?
|
दिल्ली के प्रमुख श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर।

»
ब्रजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर!
|
भारत के चार धाम

»
आरती: श्री बाल कृष्ण जी
|
भोग आरती: श्रीकृष्ण जी

सौराष्ट्रे सोमनाथं - द्वादश ज्योतिर्लिंग: मंत्र (Saurashtre Somanathan - Dwadas Jyotirlingani)

भजन: बेटा जो बुलाए माँ को आना चाहिए (Beta Jo Bulaye Maa Ko Aana Chahiye)

श्रीषङ्गोस्वाम्यष्टकम् (Sri Sad-Goswamyastakam)

भजन: मैं नहीं, मेरा नहीं, यह तन.. (Main Nahi Mera Nahi Ye Tan)

कनकधारा स्तोत्रम्: अङ्गं हरेः पुलकभूषणमाश्रयन्ती (Kanakadhara Stotram: Angam Hareh Pulaka Bhusanam Aashrayanti)

तेरी सूरत पे जाऊं बलिहार रसिया: भजन (Teri Surat Pe Jaun Balihari Rasiya)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 26 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 26)

पार्श्व एकादशी व्रत कथा! (Parshva Ekadashi Vrat Katha)

सारे तीर्थ धाम आपके चरणो में। (Sare Tirath Dham Apke Charno Me)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा (Purushottam Mas Mahatmya Katha)

भजन: चलो मम्मी-पापा चलो इक बार ले चलो! (Chalo Mummy Papa Ik Baar Le Chalo)

जय जय जननी श्री गणेश की: भजन (Jai Jai Janani Shri Ganesh ki)