बाबा गोरखनाथ जी की आरती (Baba Goraknath Ji ki Aarti)

जय गोरख देवा,

जय गोरख देवा ।

कर कृपा मम ऊपर,

नित्य करूँ सेवा ॥



शीश जटा अति सुंदर,

भाल चन्द्र सोहे ।

कानन कुंडल झलकत,

निरखत मन मोहे ॥



गल सेली विच नाग सुशोभित,

तन भस्मी धारी ।

आदि पुरुष योगीश्वर,

संतन हितकारी ॥



नाथ नरंजन आप ही,

घट घट के वासी ।

करत कृपा निज जन पर,

मेटत यम फांसी ॥



रिद्धी सिद्धि चरणों में लोटत,

माया है दासी ।

आप अलख अवधूता,

उतराखंड वासी ॥



अगम अगोचर अकथ,

अरुपी सबसे हो न्यारे ।

योगीजन के आप ही,

सदा हो रखवारे ॥



ब्रह्मा विष्णु तुम्हारा,

निशदिन गुण गावे ।

नारद शारद सुर मिल,

चरनन चित लावे ॥



चारो युग में आप विराजत,

योगी तन धारी ।

सतयुग द्वापर त्रेता,

कलयुग भय टारी ॥



गुरु गोरख नाथ की आरती,

निशदिन जो गावे ।

विनवित बाल त्रिलोकी,

मुक्ति फल पावे ॥

शंकर मेरा प्यारा.. माँ री माँ मुझे मूरत ला दे (Shankar Mera Pyara.. Maa Ri Maa Mujhe Murat La De)

भजन: श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी (Bhajan: Shri Krishna Govind Hare Murari)

भरी उनकी आँखों में है, कितनी करुणा: भजन (Bhajan: Bhari Unki Ankho Mein Hai Kitni Karuna)

श्री सत्यनारायण कथा - पंचम अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Pancham Adhyay)

रोहिणी शकट भेदन, दशरथ रचित शनि स्तोत्र कथा (Rohini Shakat Bhed Dasharath Rachit Shani Stotr Katha)

श्री सत्यनारायण कथा - चतुर्थ अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Chaturth Adhyay)

श्री सिद्धिविनायक गणेश भजन (Shri Siddhivinayak Ganesh Bhajan)

सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप की (Sari Duniya Hai Diwani Radha Rani Aapki)

मैं ढूँढता तुझे था: प्रार्थना (Mai Dhundta Tujhe Tha: Prarthana)

भगवान मेरी नैया, उस पार लगा देना: भजन (Bhagwan Meri Naiya Us Par Gaga Dena)

राम तुम बड़े दयालु हो: भजन (Ram Tum Bade Dayalu Ho)

पुत्रदा / पवित्रा एकादशी व्रत कथा! (Putrada / Pavitra Ekadashi Vrat Katha)