पत्नीं मनोरमां देहि - सुंदर पत्नी प्राप्ति मंत्र (Patni Manoraman Dehi)

दुर्गा सप्तशती के इस मंत्र के जाप से सुन्दर, सुलोचना, सभी गुणों से युक्त, मनचाही और घर को बसाने वाली पत्नी मिलती है। इस मंत्र का जाप कुंवारे व्यक्ति को ही करना चाहिए।




पत्नीं मनोरमां देहि मनोवृत्तानु सारिणीम् ।


तारिणींदुर्गसं सारसागरस्य कुलोद्भवाम् ॥


- दुर्गा सप्तशती

छठ पूजा: पहिले पहिल, छठी मईया व्रत तोहार। (Chhath Puja: Pahile Pahil Chhathi Maiya)

भजन: द्वार पे गुरुदेव के हम आगए (Dwar Pe Gurudev Ke Ham Aagaye)

भजन: घर आये राम लखन और सीता (Ghar Aaye Ram Lakhan Aur Sita)

शिव आरती - ॐ जय गंगाधर (Shiv Aarti - Om Jai Gangadhar)

भजन: करदो करदो बेडा पार राधे अलबेली सरकार (Kardo Kardo Beda Paar Radhe Albeli Sarkar)

तुलसी आरती - महारानी नमो-नमो (Tulsi Aarti - Maharani Namo Namo)

मारने वाला है भगवान, बचाने वाला है भगवान: भजन (Marne Wala Hai Bhagwan Bachane Wala Hai Bhagwan)

श्री पंच-तत्व प्रणाम मंत्र (Panch Tattva Pranam Mantra)

भजन: ना जाने कौन से गुण पर, दयानिधि रीझ जाते हैं! (Na Jane Kaun Se Gun Par Dayanidhi Reejh Jate Hain)

मैं तो बांके की बांकी बन गई (Main Toh Banke Ki Banki Ban Gayi)

विसर नाही दातार अपना नाम देहो: शब्द कीर्तन (Visar Nahi Datar Apna Naam Deho)

दानी बड़ा ये भोलेनाथ, पूरी करे मन की मुराद! (Dani Bada Ye Bholenath Puri Kare Man Ki Murad)