भजन: मैं नहीं, मेरा नहीं, यह तन.. (Main Nahi Mera Nahi Ye Tan)

मैं नहीं, मेरा नहीं,

यह तन किसी का है दिया ।

जो भी अपने पास है,

वह धन किसी का है दिया ॥



देने वाले ने दिया,

वह भी दिया किस शान से ।

मेरा है यह लेने वाला,

कह उठा अभिमान से

मैं, मेरा यह कहने वाला,

मन किसी का है दिया ।



मैं नहीं, मेरा नहीं,

यह तन किसी का है दिया ।

जो भी अपने पास है,

वह धन किसी का है दिया ॥



जो मिला है वह हमेशा,

पास रह सकता नहीं ।

कब बिछुड़ जाये यह कोई,

राज कह सकता नहीं ।

जिन्दगानी का खिला,

मधुवन किसी का है दिया ।



मैं नहीं, मेरा नहीं,

यह तन किसी का है दिया ।

जो भी अपने पास है,

वह धन किसी का है दिया ॥



जग की सेवा खोज अपनी,

प्रीति उनसे कीजिये ।

जिन्दगी का राज है,

यह जानकर जी लीजिये ।

साधना की राह पर,

यह साधन किसी का है दिया ।



मैं नहीं, मेरा नहीं,

यह तन किसी का है दिया ।

जो भी अपने पास है,

वह धन किसी का है दिया ॥



जो भी अपने पास है,

वह सब किसी का है दिया ।

मैं नहीं, मेरा नहीं,

यह तन किसी का है दिया ।

जो भी अपने पास है,

वह धन किसी का है दिया ।



मैं नहीं, मेरा नहीं,

यह तन किसी का है दिया ।

जो भी अपने पास है,

वह धन किसी का है दिया ॥

मेरो छोटो सो लड्डू गोपाल सखी री बड़ो प्यारो है (Mero Choto So Laddu Gopal Sakhi Ri Bado Pyaro Hai)

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन (Sankat Ke Sathi Ko Hanuman Kahate Hain)

श्री राधा: आरती श्री वृषभानुसुता की (Shri Radha Ji: Aarti Shri Vrashbhanusuta Ki)

परमा एकादशी व्रत कथा (Parama Ekadashi Vrat Katha)

कृपा की न होती जो, आदत तुम्हारी: भजन (Kirpa Ki Na Hoti Jo Addat Tumhari)

वीर हनुमाना अति बलवाना: भजन (Veer Hanumana Ati Balwana)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 2 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 2)

मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो: शिव भजन (Mere Bhole Baba Ko Anadi Mat Samjho)

भजन: मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है। (Mujhe Tune Malik Bahut Kuch Diya Hai)

राम नाम सुखदाई, भजन करो भाई! (Ram Naam Sukhdai Bhajan Karo Bhai Yeh Jeevan Do Din Ka)

ऋणहर्ता गणेश स्तोत्र (Rin Harta Shri Ganesh Stotra)

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी: आरती (Jai Ambe Gauri Maiya Jai Shyama Gauri)