भजन: मैं नहीं, मेरा नहीं, यह तन.. (Main Nahi Mera Nahi Ye Tan)

मैं नहीं, मेरा नहीं,

यह तन किसी का है दिया ।

जो भी अपने पास है,

वह धन किसी का है दिया ॥



देने वाले ने दिया,

वह भी दिया किस शान से ।

मेरा है यह लेने वाला,

कह उठा अभिमान से

मैं, मेरा यह कहने वाला,

मन किसी का है दिया ।



मैं नहीं, मेरा नहीं,

यह तन किसी का है दिया ।

जो भी अपने पास है,

वह धन किसी का है दिया ॥



जो मिला है वह हमेशा,

पास रह सकता नहीं ।

कब बिछुड़ जाये यह कोई,

राज कह सकता नहीं ।

जिन्दगानी का खिला,

मधुवन किसी का है दिया ।



मैं नहीं, मेरा नहीं,

यह तन किसी का है दिया ।

जो भी अपने पास है,

वह धन किसी का है दिया ॥



जग की सेवा खोज अपनी,

प्रीति उनसे कीजिये ।

जिन्दगी का राज है,

यह जानकर जी लीजिये ।

साधना की राह पर,

यह साधन किसी का है दिया ।



मैं नहीं, मेरा नहीं,

यह तन किसी का है दिया ।

जो भी अपने पास है,

वह धन किसी का है दिया ॥



जो भी अपने पास है,

वह सब किसी का है दिया ।

मैं नहीं, मेरा नहीं,

यह तन किसी का है दिया ।

जो भी अपने पास है,

वह धन किसी का है दिया ।



मैं नहीं, मेरा नहीं,

यह तन किसी का है दिया ।

जो भी अपने पास है,

वह धन किसी का है दिया ॥

राम ना मिलेगे हनुमान के बिना: भजन (Bhajan: Ram Na Milege Hanuman Ke Bina)

भजन: हम सब मिलके आये, दाता तेरे दरबार (Hum Sab Milke Aaye Data Tere Darbar)

लिङ्गाष्टकम् (Lingashtakam)

तुम बिन मोरी कौन खबर ले गोवर्धन गिरधारी: श्री कृष्ण भजन (Tum Bin Mori Kaun Khabar Le Govardhan Girdhari)

वीरो के भी शिरोमणि, हनुमान जब चले: भजन (Veeron Ke Shiromani, Hanuman Jab Chale)

आनंद ही आनंद बरस रहा: भजन (Aanand Hi Aanand Baras Raha)

माता रानी के भजन (Mata Rani Ke Bhajan)

श्री पंच-तत्व प्रणाम मंत्र (Panch Tattva Pranam Mantra)

ऐ मुरली वाले मेरे कन्हैया, बिना तुम्हारे.. (Ae Murliwale Mere Kanhaiya, Bina Tumhare Tadap Rahe Hain)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा (Purushottam Mas Mahatmya Katha)

अथ श्री बृहस्पतिवार व्रत कथा | बृहस्पतिदेव की कथा (Shri Brihaspatidev Ji Vrat Katha)

मंत्र: महामृत्युंजय मंत्र, संजीवनी मंत्र, त्रयंबकम मंत्र (Mahamrityunjay Mantra)