भजन: जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे (Jo Karte Rahoge Bhajan Dhire Dhire)

जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे ।

तो मिल जायेगा वो सजन धीरे धीरे ।



जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे ।

तो मिल जायेगा वो सजन धीरे धीरे ।



अगर उनसे मिलने की दिल में तमन्ना ।

अगर प्रभु से मिलने की दिल में तमन्ना ।

अगर हरी से मिलने की दिल में तमन्ना ।

करो शुद्ध अन्तःकरन धीरे धीरे ।

॥ जो करते रहोगे भजन...॥



कोई काम दुनिया में मुश्किल नहीं है ।

जो करते रहोगे यतन धीरे धीरे ।

॥ जो करते रहोगे भजन...॥



करो प्रेम से भक्ति सेवा हरी की ।

करो प्रेम से भक्ति पूजा हरी की ।

तो मिल जायेगा वो रतन धीरे धीरे ।

॥ जो करते रहोगे भजन...॥



जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे ।

तो मिल जायेगा वो सजन धीरे धीरे ।

आरती: श्री महावीर भगवान | जय सन्मति देवा (Shri Mahaveer Bhagwan 3 Jai Sanmati Deva)

श्री चित्रगुप्त जी की आरती - श्री विरंचि कुलभूषण (Shri Chitragupt Aarti - Shri Viranchi Kulbhusan)

भजन: मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे (Meri Jholi Chhoti Padgayi Re Itna Diya Meri Mata)

तुम शरणाई आया ठाकुर: शब्द कीर्तन (Tum Sharnai Aaya Thakur)

भजन: किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए.. (Kishori Kuch Aisa Intazam Ho Jaye)

जानकी नाथ सहाय करें.. (Janaki Nath Sahay Kare)

हम तो दीवाने मुरलिया के, अजा अजा रे लाल यशोदा के (Hum Too Diwane Muraliya Ke Aaja Aaje Re Lal Yashoda Ke)

हरी दर्शन की प्यासी अखियाँ: भजन (Akhiya Hari Darshan Ki Pyasi)

करवा चौथ व्रत कथा: साहूकार के सात लड़के, एक लड़की की कहानी (Karwa Chauth Vrat Katha)

मुझे कौन जानता था तेरी बंदगी से पहले: भजन (Mujhe Kaun Poochhta Tha Teri Bandagi Se Pahle)

बांके बिहारी मुझको देना सहारा! (Banke Bihari Mujhko Dena Sahara)

तू शब्दों का दास रे जोगी: भजन (Tu Sabdon Ka Das Re Jogi)