भजन: जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे (Jo Karte Rahoge Bhajan Dhire Dhire)

जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे ।

तो मिल जायेगा वो सजन धीरे धीरे ।



जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे ।

तो मिल जायेगा वो सजन धीरे धीरे ।



अगर उनसे मिलने की दिल में तमन्ना ।

अगर प्रभु से मिलने की दिल में तमन्ना ।

अगर हरी से मिलने की दिल में तमन्ना ।

करो शुद्ध अन्तःकरन धीरे धीरे ।

॥ जो करते रहोगे भजन...॥



कोई काम दुनिया में मुश्किल नहीं है ।

जो करते रहोगे यतन धीरे धीरे ।

॥ जो करते रहोगे भजन...॥



करो प्रेम से भक्ति सेवा हरी की ।

करो प्रेम से भक्ति पूजा हरी की ।

तो मिल जायेगा वो रतन धीरे धीरे ।

॥ जो करते रहोगे भजन...॥



जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे ।

तो मिल जायेगा वो सजन धीरे धीरे ।

अहं ब्रह्मास्मि महावाक्य (Aham Brahmasmi)

छोटी सी किशोरी मोरे अंगना मे डोले रे (Chhoti Si Kishori More Angana Me Dole Re)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 21 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 21)

ॐ श्री विष्णु मंत्र: मङ्गलम् भगवान विष्णुः (Shri Vishnu Mantra)

तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान: भजन (Tere Pujan Ko Bhagwan)

श्री नागेश्वर ज्योतिर्लिंग उत्पत्ति पौराणिक कथा (Shri Nageshwar Jyotirlinga Utpatti Pauranik Katha)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 5 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 5)

सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप की (Sari Duniya Hai Diwani Radha Rani Aapki)

तुम्हारी जय हो वीर हनुमान भजन (Tumhari Jai Ho Veer Hanuman Bhajan)

अजा एकादशी व्रत कथा! (Aja Ekadashi Vrat Katha)

येषां न विद्या न तपो न दानं... (Yeshaan Na Vidya Na Tapo Na Danan)

राधाकृष्ण प्राण मोर युगल-किशोर ( RadhaKrishn Prana Mora Yugal Kishor)