जयति जयति जग-निवास, शंकर सुखकारी (Jayati Jayati Jag Niwas Shankar Sukhkari)

जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




अजर अमर अज अरूप,


सत चित आनंदरूप ।


व्यापक ब्रह्मस्वरूप,


भव! भव-भय-हारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




शोभित बिधुबाल भाल,


सुरसरिमय जटाजाल ।


तीन नयन अति विशाल,


मदन-दहन-कारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




भक्तहेतु धरत शूल,


करत कठिन शूल फूल ।


हियकी सब हरत हूल,


अचल शान्तिकारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




अमल अरुण चरण कमल,


सफल करत काम सकल ।


भक्ति-मुक्ति देत विमल,


माया-भ्रम-टारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




कार्तिकेययुत गणेश,


हिमतनया सह महेश ।


राजत कैलास-देश,


अकल कलाधारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




भूषण तन भूति व्याल,


मुण्डमाल कर कपाल ।


सिंह-चर्म हस्ति खाल,


डमरू कर धारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




अशरण जन नित्य शरण,


आशुतोष आर्तिहरण ।


सब बिधि कल्याण-करण,


जय जय त्रिपुरारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥



॥ इति श्री शंकर जी आरती समाप्त ॥

राम ही पार लगावेंगे: भजन (Ram Hi Paar Lagavenge)

अथ दुर्गाद्वात्रिंशन्नाममाला - श्री दुर्गा द्वात्रिंशत नाम माला (Shri Durga Dwatrinshat Nam Mala)

कैसी यह देर लगाई दुर्गे... (Kaisi Yeh Der Lagayi Durge)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 11 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 11)

धन जोबन और काया नगर की: भजन (Dhan Joban Aur Kaya Nagar Ki)

माँ दुर्गा देव्यापराध क्षमा प्रार्थना स्तोत्रं! (Maa Durga Kshama Prarthna Stotram)

धर्मराज आरती - ॐ जय धर्म धुरन्धर (Dharmraj Ki Aarti - Om Jai Dharm Dhurandar)

श्री विष्णु मत्स्य अवतार पौराणिक कथा (Shri Vishnu Matsyavatar Pauranik Katha)

राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा! (Radha Dundh Rahi Kisine Mera Shyam Dekha)

पतिव्रता सती माता अनसूइया की कथा (Pativrata Sati Mata Ansuiya Ki Katha)

आए हैं प्रभु श्री राम, भरत फूले ना समाते: भजन (Aaye Hain Prabhu Shri Ram Bharat Fule Na Samate)

प्रभु मेरे मन को बना दे शिवाला! (Prabhu Mere Mann Ko Banado Shivalay)