जयति जयति जग-निवास, शंकर सुखकारी (Jayati Jayati Jag Niwas Shankar Sukhkari)

जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




अजर अमर अज अरूप,


सत चित आनंदरूप ।


व्यापक ब्रह्मस्वरूप,


भव! भव-भय-हारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




शोभित बिधुबाल भाल,


सुरसरिमय जटाजाल ।


तीन नयन अति विशाल,


मदन-दहन-कारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




भक्तहेतु धरत शूल,


करत कठिन शूल फूल ।


हियकी सब हरत हूल,


अचल शान्तिकारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




अमल अरुण चरण कमल,


सफल करत काम सकल ।


भक्ति-मुक्ति देत विमल,


माया-भ्रम-टारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




कार्तिकेययुत गणेश,


हिमतनया सह महेश ।


राजत कैलास-देश,


अकल कलाधारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




भूषण तन भूति व्याल,


मुण्डमाल कर कपाल ।


सिंह-चर्म हस्ति खाल,


डमरू कर धारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥




अशरण जन नित्य शरण,


आशुतोष आर्तिहरण ।


सब बिधि कल्याण-करण,


जय जय त्रिपुरारी ॥



जयति जयति जग-निवास,

शंकर सुखकारी ॥



॥ इति श्री शंकर जी आरती समाप्त ॥

सीता राम, सीता राम, सीताराम कहिये: भजन (Sita Ram Sita Ram Sita Ram Kahiye)

ओम अनेक बार बोल! (Om Anek Bar Bol Prem Ke Prayogi)

शिव स्तुति: आशुतोष शशाँक शेखर (Shiv Stuti: Ashutosh Shashank Shekhar)

श्री गंगा स्तोत्रम् - श्री शङ्कराचार्य कृतं (Maa Ganga Stortam)

श्री गौ अष्टोत्तर नामावलि - गौ माता के 108 नाम (Gau Mata Ke 108 Naam)

राम नाम जपते रहो, जब तक घट घट मे प्राण (Ram Nam Japte Raho, Jab Tak Ghat Ghat Me Ram)

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया.. (Jail Main Prakate Krishn Kanhaiya)

कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं: भजन (Kabhi Pyase Ko Pani Pilaya Nahi)

श्री शङ्कराचार्य कृतं - अर्धनारीनटेश्वर स्तोत्र॥ (Ardhnarishwar Stotram)

नमस्कार भगवन तुम्हें भक्तों का बारम्बार हो: भजन (Namaskar Bhagwan Tumhe Bhakton Ka Barambar Ho)

राघवजी तुम्हें ऐसा किसने बनाया: भजन (Raghav Ji Tumhe Aisa Kisne Banaya)

श्री सिद्धिविनायक गणेश भजन (Shri Siddhivinayak Ganesh Bhajan)